तकनीकी बोली - Bharat Petroleum...म मल म बत ए गए ट क ल...

of 91 /91
मालीगढ़ रिफायनिी डिपैच य नट, मालीगढ़ से असम िाय मै पी ओ एल उपाद (एमएस/एचएसिी/एसके ओ/एटीएफ़/ािेि इंधन) के सड़क परिवहन हेत नववदा * तकनीकी बोल* (ननववदा संदभ: बीपीसीएल/ईआि/एएस/पीओएल/बक/एनआिएल/2015-17/01) ेषक : (नाम औि पता) मैससभ : _____________ _____________ _____________ वपन : ____________________ -मेल आईिी : __________________ संपकभ फोन न. (कायाभलय) ____________ मोबाइल न. ______________ उस लोकेशन का नाम जिसके लए ननववदा तुत की िानी है : नववदा दतावेि को िाउनलोि किने के ललए 1123.60/- (सेवा कि @12.36 सहहत) रपए का डिमांि ाट न. .................... नतथि .............. नत टक लािी 5000/- ऱपये के हहसाब से ईएमिी (धिोहि िमा िालश) ....... x टक लॉरिय की संया : डिमांि ाट न. .................हदनांक ........................ नववदा हदनांक :

Embed Size (px)

Transcript of तकनीकी बोली - Bharat Petroleum...म मल म बत ए गए ट क ल...

  • नुमालीगढ़ रिफायनिी डिस्पैच यूननट, नुमालीगढ़ से असम िाज्य में पी ओ एल उत्पादों (एमएस/एचएसिी/एसकेओ/एटीएफ़/ब्राण्ििे इंधनों) के सड़क परिवहन हेत ुननववदा * तकनीकी बोली *

    (ननववदा संदर्भ: बीपीसीएल/ईआि/एएस/पीओएल/बल्क/एनआिएल/2015-17/01)

    प्रेषक : (नाम औि पता) मसैसभ : _____________ _____________ _____________ वपन : ____________________ ई-मेल आईिी : __________________ सपंकभ फोन न. (कायाभलय) ____________ मोबाइल न. ______________

    उस लोकेशन का नाम जिसके ललए ननववदा प्रस्ततु की िानी है : ननववदा दस्तावेिों को िाउनलोि किने के ललए 1123.60/- (सेवा कि @12.36 सहहत) रुपए का डिमांि ड्राफ्ट न. .................... नतथि .............. प्रनत टैंक लािी 5000/- रूपये के हहसाब से ईएमिी (धिोहि िमा िालश) ....... x टैंक लॉरियों की सखं्या : डिमांि ड्राफ्ट न. .................हदनांक ........................ ननववदा हदनांक :

  • र्ाित पेट्रोललयम कॉपोिेशन लललमटेि ननववदा आमंत्रित किने की सचूना

    बल्क पेट्रोललयम उत्पादों के सड़क परिवहन के ललए टैंक लािी की आवश्यकता हेतु ननववदा । (ननविदा संख्या. बीपीसीएल/ईआर/एएस/पीओएल/बल्क/एनआरएल/2015 -17/01) र्ाित पेट्रोललयम कॉपोिेशन लललमटेि (बीपीसीएल), िो सावभिननक क्षेि का एक उपक्रम है, टैंक लािी स्वालमयों से बल्क पेट्रोललयम उत्पादों के सड़क परिवहन के ललए दो बोली प्रणाली के अंतगभत दो वषभ की अवथध के ललए ठेका प्रदान किने हेतु सीलबंद ननववदाएं आमंत्रित किता है, जिसे कंपनी के वववेकाधीन एक अिवा अथधक वषों की अवथध के ललए पहले से लागू ननयमों एवं शतों के अनुरूप बढ़ाया िा सकता है । कृपया ध्यान दें कक केवल तकनीकी बोली ही पहले चिण में प्रस्तुत की िाएगी औि मूल्य बोललयां सीधे तौि पि मैससभ ई प्रोक्योिमेंट टेक्नॉलॉिीि लललमटेि (ईटीएल) द्वािा आयोजित ऑनलाइन इलेक्ट्रॉननक बोली प्रकक्रया में प्रस्तुत की िाएगी ।

    ननविदा की शतें और ननबधंन ए सामान्य

    1. लोकेशन के अनसुाि टैंक लारियों की अनमुाननत िरूित नीचे दी गई है :- स्िान का नाम जिसके के ललए ननववदा आवेहदत की िानी है ।

    स्िान का पता, िहां पि ननववदा प्रपि प्रस्तुत ककया िाना है ।

    लोकेशन की ननववदा संख्या

    अनुमाननत टैंक लॉरियों की आवश्यकता

    12 केएल से कम

    12 केएल 18 केएल एिं उससे अधधक

    एनआिएल िीय,ू नुमालीगढ़, असम

    नुमालीगढ़ रिफायनिी लललमटेि,बीपीसीएल, पोस्ट: जिला, गोलाघाट: 785699, नुमालीगढ़ असम ।

    बीपीसी/ईआर/एएस /पीओएल/बल्क/एनआरएल/ 2015-17/01

    WO : 20

    ATF : 10 WO : 15

    WO : 50

    ATF : 35

  • प्रनत टैंक लॉिी/प्रनत माह अनुमाननत मािा i) > 12 केएल की क्षमता के ललए 150 केएल ii) 12 केएल की क्षमता के ललए 300 केएल iii) 18 केएल की क्षमता के ललए 600 केएल होगी । ननववदा दस्तावेज़ में अकंकत टैंक लॉरियों की अनुमाननत संख्या एवं आयतन क्षमता साकेंनतक हैं बीपीसीएल व्यापारिक मािा की कोई प्रनतबद्धता/वचन प्रदान नहीं किता है । आवश्यकता अनुसाि बीपीसीएल टैंक लॉरियों की अनुमाननत संख्या में ववृद्ध या कमी किने का अथधकाि सुिक्षक्षत िखता है ।

    बी. ई ननविदा हेत ुननविदाकारों के ललए समान्य अनदेुश: 1) इच्छुक ननववदाकािों को {तकनीकी (पूवभ योग्यता) ननववदा दस्तावेज़ हमािी वेव साइट

    http://www.bharatpetroleum.com/EnergisingBusiness/Tenderlist.aspx से िाउन लोि किना होगा । ननववदा के दस्तावेज़ http://eprocure.gov.in/cppp/ पि र्ी उपलब्ध होगा । पूणभ ववविणमय ननववदा दस्तावेज़ तिा ननयम एवं शतें हमािी वेवसाइट http://bpcleproc.in पि र्ी उपलब्ध होगी । इच्छुक पक्षकाि उसे िाउनलोि कि सकत ेहैं औि उसमें हदए गए ननदेशों के अनुसाि ननववदा की ननयत तािीख अिवा पहले ननववदा में र्ाग ले सकत ेहैं । ननववदाकाि को ननववदा https://bpcleproc.in में ई-प्रोक्योिमेंट प्रणाली के माध्यम से ऑनलाइन प्रस्तुत किना होगा औि "र्ाित पेट्रोललयम कॉपोिेशन लललमटेि" के पक्ष में मुंबई में देय ककसी र्ी अनुसूथचत बैंक पि तैयाि प्रनत सेट ननववदा दस्तावेि रुपए 1123.60 / सेवा कि सहहत (रुपये एक हिाि एक सौ तईेस औि साठ पैसे केवल) का िीिी (नॉन-रिफंिबेल) के साि साि प्रस्तुत किना होगा । प्रनत सेट ननववदा दस्तावेि के साि रुपए 1123.60/- के िीिी के साि प्रस्तुत नहीं किने पि उस ननववदा को अस्वीकाि कि हदया िाएगा ।

    2) ननववदा में र्ाग लेने के ललए एक पूवभ ननववदाकताभओं को मान्य डिजिटल हस्ताक्षि प्रमाणपि (हस्ताक्षि औि एजन्क्रप्शन) वगभ IIB औि उससे ऊपि र्ाितीय आईटी अथधननयम के अनुसाि र्ाित के रूट प्रमाणन प्राथधकिण (RCIA) प्रमाण अथधकारियों के ननयंिक (सीसीए) के तहत लाइसेंस प्रमाण पि प्राप्त किना आवश्यक होगा । इस तिह के डिजिटल हस्ताक्षि प्रमाणपि प्राप्त किने की लागत ननववदाकाि द्वािा वहन ककया िाएगा ।

    3) इस मामले में यहद कोई र्ी ननववदाकाि चाहे तो डिजिटल हस्ताक्षि प्रमाणपि प्राप्त किने के ललए वह हमािे ई खिीद सेवा

    प्रदाता मैससभ ई-प्रोक्योिमेंट टेक्नॉलॉिी लललमटेि (ETL), मुंबई संपकभ कि सकत े/ सकती हैं ।

    4) शुवद्धपि / संशोधन, यहद कोई हो, तो पैिा 1 में उपिोक्त सर्ी वेब साइटों पि अथधसूथचत ककया िाएगा । यहद ककसी मामले में शुवद्धपि / संशोधन बोली प्रस्तुत किन ेके बाद िािी ककया िाता है, तब वैसे वेंिि जिन्होंने अपनी बोली प्रस्तुत की है तब ऐसे ववके्रताओं को एक प्रणाली िननत ईमेल द्वािा शुवद्धपि / संशोधन के बािे में सूथचत ककया िाएगा । (खुली ननववदा शुवद्धपि के मामले में / संशोधन सावभिननक िशे बोिभ पि ककया िाएगा औि उन वेंििों को कोई मेल नहीं रे्िा िाएगा जिन्होंने समय पि र्ाग नहीं ललया है) यह समझा िाएगा कक उसमें ननहहत िानकािी ववके्रता द्वािा ध्यान में िखा गया है । ननयत तािीख औि समय से पहले वे अपनी बोली में बदलाव किन ेका ववकल्प िखत ेहैं ।

    5) ननववदाकताभओं को ऑनलाइन या ननववदा के समापन की ननयत तािीख से पहले पूिे तकनीकी (प्री-क्वाललकफकेशन) बोली प्रकक्रया को पूिा किन आवश्यक होगा ।

    6) बोली लगाने हेतु केवल उन ननववदाकािों को अनुमनत दी िाएगी जिनकी तकनीकी (प्री-क्वाललकफ़केशन) बोली हमािे ललए

    स्वीकायभ होगी । इलेक्ट्रॉननक मूल्य बोली के संचालन के ललए अनुसूची अलग से सूथचत की िाएगी।

    http://www.bharatpetroleum.com/EnergisingBusiness/Tenderlist.aspxhttp://eprocure.gov.in/cppphttp://bpcleproc.in/

  • 7) इंटिनेट के माध्यम से सीधे तौि पि ई-प्रोक्योिमेंट ननववदाओं के संबंध में इलेक्ट्रॉननक, ऑनलाइन प्रस्तावों को प्रस्तुत किन े

    के ललए हदशा ननदेश:

    1. ननववदाकताभओं को वेब साइट (https://bpcleproc.in) पि लॉथगन कि स्वयं को िल्द से िल्द पंिीकृत किवाने की व्यवस्िा किने कक सलाह दी िाती है ।

    2. लसस्टम का समय (आईएसटी) ई-प्रोक्योिमेंट वेब पेि पि प्रदलशभत ककया िाएगा िो ननयत तािीख औि ननववदा के समय की समाजप्त का ननधाभिण किन ेके ललए ववचाि का समय होगा । औि कोई अन्य समय संज्ञान में नहीं ललया िाएगा ।

    3. ननववदाकताभओं को उनके स्वयं के हहत में अच्छी तिह से, बोली की अंनतम नतथि औि समय से पहले ई-प्रोक्योिमेंट लसस्टम में प्रस्तुनत सुननजश्चत किन ेहेतु सलाह दी िाती है । यहद वेंिि पहले से ही दिभ बोली बदलने/संशोथधत किन ेका इिादा िखता है, वह िमा किन ेकी समय सीमा की ननयत तािीख औि समय तक एक से अथधक ककतनी बाि र्ी सशंोथधत कि सकती है । हालांकक कोई र्ी बोली बोललयां प्रस्तुत किन ेके ललए समय सीमा के बाद संशोथधत नहीं ककया िा सकता है ।

    4. एक बाि ऑनलाइन बोली प्रस्तुत किन ेकी पूिी प्रकक्रया हो िाने के बाद । ननववदाकताभओ ंको िशैबोिभ के माध्यम से अपनी बोली को देखने के ववकल्प पि िाना होगा औि प्रस्तुत बोली हेतु सबूत के रूप में ललफाफा िसीद का वप्रटं लेने की आवश्यकता होगी ।

    5. बोली / ऑफि ननववदा की देय नतथि / समय के बाद ई-प्रोक्योिमेंट लसस्टम में अनुमनत नहीं दी िाएगी। इसललए, कोई र्ी बोली प्रस्तुत किन ेकी ननयत तािीख औि समय बीत िाने पि प्रस्तुत नहीं ककया िा सकता है ।

    6. कोई मैन्युअल बोली / इलेक्ट्रॉननक बोललयों के साि प्रदान किता है / प्रस्तावों की अनुमनत नहीं होगी ।

    7. कनेजक्टववटी औि वेबसाइट की उपलब्धता औि ककसी र्ी प्रकाि के ववलंब के ललए बीपीसीएल औि ई प्रोक्यूिमेंट सेवा प्रदाता द्वािा ककसी प्रकाि का उतिदानयत्व नहीं ललया िाएगा । व ेननववदाकताभओं के ललए ककसी र्ी प्रकाि का दानयत्व वहन नहीं किेंगे, र्ले ही देिी के कािण साइट के उपयोग में कोई रुकावट या बाधा हो । यह सलाह दी िाती है कक िो वेंिि ई ननववदा प्रकक्रयाओं के साि अच्छी तिह से परिथचत नहीं हैं, ननयत अंनतम समय सीमा से काफी पहले से ही ननववदा र्िना प्रािम्र् कि दें ताकक उनके पास सर्ी चिणों से सुपरिथचत होने का पयाभप्त समय उपलब्ध िहे औि मदद कक आवश्यकता होने पि सहायता ले सकें , औि उनके ललए र्ी िो इस तिह के ई टेंििींग से सुपरिथचत हैं समय पूवभ ही सर्ी गनतववथधयों को पूिा किने का सुझाव हदया िाता है । यह ध्यान हदया िाना चाहहए कक व्यजक्तगत बोली, बोली खुलने के हदन/ननयत तािीख औि समय के बाद ही देखा िा सकता है । कृपया यह र्िोसा िखें कक आपकी बोली ननववदा खुलने के ननयत हदनांक औि समय से पहले केवल आपके द्वािा ही देखी िा सकती है औि अन्यों के द्वािा त्रबलकुल र्ी नहीं देखी िा सकती है । ननयत तािीख औि समय से पहले देखने की अनुपलब्धता ई-टेंिरिगं सेवा प्रदाता के रूप में र्ली र्ांनत तिा बीपीसीएल के अथधकारियों के ललए र्ी उसी तिह सत्य है । 8. बीपीसीएल औि/या ई-प्रोक्योिमेंट सेवा प्रदाता, ककसी र्ी प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष नुकसान या क्षनत औि या परिणामी क्षनत के ललए जिम्मेदाि नहीं होगा, यह केवल लसस्टम समस्याओं तक ही सीलमत नहीं बजल्क बोली प्रकक्रया से उत्पन्न, अक्षमता प्रणाली का उपयोग किन ेके ललए, इलेक्ट्रॉननक सूचना की हानन आहद सहहत र्ी ।

  • 9. ई-खिीद प्रकक्रया से संबंथधत ककसी र्ी स्पष्टीकिण के मामले में, ववके्रता ननम्नललखखत एिेंलसयों / कलमभयों से संपकभ कि सकत ेहैं: 1. प्रणाली से संबंधधत मुद्दों के ललए: ए. मैससस. ई-प्रोक्योरमेंट टेक्नोलॉजीज लललमटेड (ईटीएल), सम्पकभ ववविणों पि:

    बोलीदाता हेल्प डसे्क नंबर (िेंडरों के ललए)

    संपकस सूत्र ई-मेल

    मुंबई कायाभलय 1 +91 - 22 – 65354113

    [email protected]

    मुंबई कायाभलय 2 +91 - 22 – 65595111

    [email protected]

    अहमदाबाद कायाभलय 1 +91 - 79 – 40016816

    [email protected]

    अहमदाबाद कायाभलय 2 +91 - 79 – 40016848

    [email protected]

    अहमदाबाद कायाभलय 3 +91 - 79 – 40016868

    [email protected]

    अहमदाबाद कायाभलय 4 +91 - 79 – 40016844

    [email protected]

    बी .मैससस. ई-प्रोक्योरमेंट टेक्नोलॉजीज लललमटेड (ईटीएल), सम्पकभ ववविणों पि:( बोली सबंजन्धत मदु्दे)

    बोलीदाता हेल्प डसे्क नंबर. (िेंडरों हेतु )

    संपकस सूत्र ई-मेल

    कोलकाता हेल्पिसे्क सहायता कें द्र (श्री चंदन)

    +91 - 33 –

    24293447

    +91-9851945660

    [email protected]

    C/O बीपीसीएल, र्ाित र्वन, प्लॉट न ं31, ककट स्कीम नं 118, वप्रसं गुलाम मोहम्मद। शाह िोि, गोल्फ ग्रीन, कोलकाता: 700095

    1. ननविदा से संबंधधत प्रश्नों के ललए:

    ए. श्री. एस साधुखान बीपीसीएल संपकभ सूि +91-3324293314 ई-मेल [email protected]

    बी. श्री. पी लसकदि बीपीसीएल संपकभ सूि. +91-33 24293334 ई-मेल [email protected]

    mailto:[email protected]:[email protected]:[email protected]:[email protected]:[email protected]:[email protected]:[email protected]

  • ननववदा के जिम्मेदाि व्यजक्त बीपीसीएल के श्री एस के दास हैं । संपकभ सूि + 91-33-24293326

    1. ववथधवत र्िे हुए ननववदा प्रपिों को हमािे एनआरएल डीय,ू नुमालीगढ़, जजला गोलाघाट, असम । में िखे हुए टेंिि बॉक्स में िालना होगा । ननववदाकाि को एक ललफाफे में उस लोकेशन का नाम अथधथचजन्हत किते हुए जिस लोकेशन के ललए ननववदा िमा कक िा िही हो सीलबदं ननववदा इस उद्देश्य के ललए ननधाभरित ननववदा पेटी में ननववदा के बदं होने कक ननयत नतथि औि समय से पहले िमा किना होगा ।

    2. ननववदा प्रस्तुत किने कक अंनतम नतथि औि समय सीमा 06.04.2015 को 14:00 बिे तक है । कोई र्ी ननववदा दस्तावेि ननयत तािीख औि ननववदा िमा किने के समय के बाद ववचाि नही ं ककया िाएगा। कािण चाहे िो र्ी हो यहद ननववदा अंनतम नतथि औि समय से पहले औि सही टेंिि बॉक्स में प्रस्तुत नही ं ककया गया है बीपीसीएल ककसी र्ी परिजस्िनत में देिी के ललए जिम्मेदाि नही ंहोगा ।

    3. ननववदाकताभओं को प्रत्येक स्िान के ललए अलग टैंक लॉिी की पेशकश किनी होगी । एक से अथधक स्िान के ललए पेशकश की एक ही टैंक लॉिी अस्वीकाि कि दी िाएगी । यहद इस तिह के मामलों में, एक ही टैंक लॉिी एक से अथधक ननववदाकाि द्वािा की पेशकश की गई है तो ऐसे मामले में बताए गए टैंक लॉिी के ललए ककसी र्ी ननववदाकाि के ललए ववचाि नहीं ककया िाएगा ननववदाकाि वे टैंक- Lorries की पेशकश की है, जिसके ललए प्रत्येक स्िान के ललए पेशकश की टंकी-Lorries (अनुलग्नक 2) के अलग "ब्योिे को र्िने के ललए आवश्यक होगा । ननववदाकाि को प्रत्येक स्िान के ललए पेशकश की गई टैंक लॉिी (अनुलग्नक 2) के अलग "ब्योिे को र्िने के ललए आवश्यकता होगी जिन टैंक लॉरियों की उनके द्वािा पेशकश की गई है ।

    4. यह ननववदा बल्क पेट्रोललयम उत्पादों की सड़क परिवहन हेतु आमतं्रित ककया िा िहा है नुमालीगढ़, असम में एनआिएल िीय ू से टैंक लॉिी के माध्यम से (एमएस/एचएसिी/एसकेओ/ब्रांििे ईंधन / एटीएफ आहद) ।

    5. ननववदाकाि को प्रत्येक लोकेशन के ललए न्यूनतम 5 कक संख्या में टैंक लॉिी कक पेशकश किनी होगी । न्यूनतम का 40% यानी 2 नग टैंक लॉिी ननववदाकाि के स्वालमत्व में होना चाहहए ।

    यहद कोई ननववदाकाि 60% से अथधक संलग्न टैंकलॉिी प्रदान किता है, तो इस तिह के मामले में 60% संलग्न टैंकलॉिी औि 40% स्वालमत्व टैंकलॉिी की अथधकतम अनुपात के ललए प्रनतबंथधत ककया िाएगा ।

  • i) टैंक लॉिी गणना के प्रयोिन के ललए दशमलव होने पि । ककसी र्ी ननकटतम नंबि के ललए पूणाांककत ककया िाएगा (ऊपिी सीमा 0.5 से लेकि अिाभत ्अगले उच्च संख्या में पूणाांककत होगा औि अशं 0.5 से नीच ेकम संख्या में पूणाांककत ककया िाएगा)।

    ii) कंपनी सफल ननववदाकािों से संलग्न टैंक लॉिी काम में लगाने का अथधकाि सुिक्षक्षत िखता है ।

    iii) ननववदाकाि द्वािा की पेशकश की स्वालमत्व वाली टैंकलॉिी ननववदाकाि के नाम पि या एकल माललक/पाटभनि/बताए गए फमभ के ननदेशक के नाम से होना चाहहए ।

    iv) 18 Ûêú ‹»Ö †£Ö¾ÖÖ †×¬ÖÛú õÖ´ÖŸÖÖ Ûúß ™ïüÛú »ÖÖ¸üß ÛúÖê ¯Öê¿ÖÛú¿Ö Ûú¸ü®Öê ¾ÖÖ»Öê ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ ×•Ö®ÖÛêú þÖÖ×´ÖŸ¾Ö ´Öë ×¾Ö–ÖÖ¯Ö®Ö Ûúß ×ŸÖ×£Ö ŸÖÛú µÖê ®ÖÖ ÆüÖë, ˆ®Æëü †®Öã»ÖÝ®ÖÛú-10 (ÃÖÓ»ÖÝ®Ö) Ûêú †®ÖãÃÖÖ¸ü ‹Ûú ¿Ö¯Ö£Ö ¯Ö¡Ö (‹×±ú›êü×¾Ö™ü) •Ö´ÖÖ Ûú¸ü®Öê ¯Ö¸ü ‡ÃÖ ´Ö¤ü ´Öë †®Öã´Ö×ŸÖ ¤üß •ÖÖ ÃÖÛúŸÖß Æîü … ‹êÃÖê ¿Ö¯Ö£Ö ¯Ö¡Ö Ûêú ‹¾Ö•Ö ´Öë ¯Öê¿ÖÛú¿Ö Ûúß ÝÖ‡Ô ™ïüÛú »ÖÖ׸üµÖÖë ÛúÖê ‹»Ö †Öê †Ö‡Ô •ÖÖ¸üß ×Ûú‹ •ÖÖ®Öê Ûêú 30 פü®ÖÖë ´Öë Æüß »ÖÖêÛêú¿Ö®ÖÖë ´Öë ¯ÖÏŸµÖõÖ ºþ¯Ö ÃÖê ˆ¯Ö×Ã£ÖŸÖ Ûú¸ü®ÖÖ ÆüÖêÝÖÖ, †®µÖ£ÖÖ ‡®ÖÛêú ×»Ö‹ •Ö´ÖÖ ‡Ô ‹´Ö ›üß •Ö²ŸÖ ÆüÖê •ÖÖ‹ÓÝÖß …

    6. ¯Öê¿Ö Ûúß ÝÖ‡Ô ™ïüÛú »ÖÖ¸üß Ûúß †ÖµÖã (†Ö¸ü ÃÖß ²ÖãÛú ´Öë ´ÖÖò›ü»Ö / ´Ö êÛú ÛúÖ ¾ÖÂÖÔ) 14 ¾ÖÂÖÔ ÃÖê †×¬ÖÛú ®ÖÆüà ÆüÖê®Öß “ÖÖ×Æü‹ †£ÖÖÔŸÖ माचभü 2001 ÃÖê ¯ÖÆü»Öê Ûêú मॉिल ¾ÖÖ»Öß ™ïüÛú »ÖÖ¸üß ®ÖÆüà »Öß •ÖÖµÖêÝÖß … šêüÛêú Ûúß †¾Ö×¬Ö Ûêú ¤üÖî¸üÖ®Ö 14 ¾ÖÂÖÔ Ûúß †ÖµÖã ¯Öæ¸üß Ûú¸ü »Öê®Öê ¾ÖÖ»Öß ™ïüÛú »ÖÖ׸üµÖÖë ÛúÖê šêüÛêú ´Öë ÃÖê ×®ÖÛúÖ»Ö ×¤üµÖÖ •ÖÖ‹ÝÖÖ … ÃÖÓ²Ö¨ü ¯Ö׸ü¾ÖÆü®Ö šêüÛêú¤üÖ¸ü Ûúß ×•Ö´´Öê¤üÖ¸üß ÆüÖêÝÖß ×Ûú ¾ÖÆü ‡®ÖÛêú ãÖÖ®Ö ¯Ö¸ü 30 פü®ÖÖë Ûêú ³Öߟָü 14 ¾ÖÂÖÔ ÃÖê Ûú´Ö †ÖµÖã Ûúß ¤æüÃÖ¸üß ™ïüÛú »ÖÖ׸üµÖÖë ÛúÖê »ÖÝÖÖ ¤êü …

    7. ÃÖ³Öß ×®Ö¾ÖêפüŸÖ ¤ü¸ëü ¿Ö²¤üÖë †Öî¸ü †ÓÛúÖë ¤üÖê®ÖÖë ´Öë ¤ü¿ÖÖÔ®Öß ÆüÖëÝÖß … ¤üÖê®ÖÖë ´Öë ÛúÖê‡Ô †ÓŸÖ¸ü ÆüÖê®Öê ¯Ö¸ü ¿Ö²¤üÖë ´Öë ˆ×»»Ö×ÜÖŸÖ ¤ü¸üÖë ÛúÖê †Ó×ŸÖ´Ö †Öî¸ü ¯ÖÏÖ´ÖÖ×ÞÖÛú ´ÖÖ®ÖÖ •ÖÖ‹ÝÖÖ … ×®Ö¾ÖêפüŸÖ ¤ü¸ëü ×®Ö×¾Ö¤üÖ ²ÖÓ¤ü ÆüÖê®Öê Ûúß ŸÖÖ¸üßÜÖ ÃÖê 180 פü®ÖÖë ŸÖÛú ¾Öî¬Ö †Öî¸ü ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ ¯Ö¸ü ²ÖÖ¬µÖÛúÖ¸üß ¸üÆëüÝÖß, •Ö²Ö ŸÖÛú ×Ûú ‡ÃÖ †¾Ö×¬Ö ÛúÖê †Ö¯ÖÃÖß ÃÖÆü´Ö×ŸÖ ÃÖê ×»Ö×ÜÖŸÖ ºþ¯Ö ´Öë ²ÖœÌüÖ ®ÖÆüà פüµÖÖ •ÖÖŸÖÖ … ¾Öî¬ÖŸÖÖ †¾Ö×¬Ö Ûêú ¤üÖî¸üÖ®Ö, ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ ÛúÖê †¯Ö®Öß ´Ö•Öá ÃÖê †¯Ö®ÖÖ ¯ÖÏÃÖŸÖÖ¾Ö ¾ÖÖׯÖÃÖ »Öê®Öê µÖÖ ˆÃÖ´Öë ÃÖÓ¿ÖÖê¬Ö®Ö Ûú¸ü®Öê Ûúß †®Öã´Ö×ŸÖ ®ÖÆüà ÆüÖêÝÖß … ‡ÃÖ ¯ÖÏÖ¾Ö¬ÖÖ®Ö ÛúÖ ˆ»»ÖÓ‘Ö®Ö Ûú¸ü®Öê ¯Ö¸ü †×ÝÖÏ´Ö •Ö´ÖÖ ¸üÖ×¿Ö •Ö²ŸÖ Ûú¸ü »Öß •ÖÖ‹ÝÖß … ×®Ö×¾Ö¤üÖ ´ÖÓ•Öæ¸ü ÆüÖê •ÖÖ®Öê ŸÖ£ÖÖ ÛúÖµÖÔ ÃÖÖï¯Ö פü‹ •ÖÖ®Öë Ûêú ¯Ö¿“ÖÖŸÖË šêüÛêú Ûúß ÃÖ´¯ÖæÞÖÔ †¾Ö×¬Ö Ûêú ¤üÖî¸üÖ®Ö µÖÆüß ¤ü ȩ̈ü ¾Öî¬Ö ¸üÆëüÝÖß …

    8. ²Ö߯ÖßÃÖß‹»Ö ÛúÖê ײ֮ÖÖ ÛúÖê‡Ô ÛúÖ¸üÞÖ ²ÖŸÖÖ‹, ×®Ö´®Ö×»Ö×ÜÖŸÖ ÛúÖ ÃÖ´¯ÖæÞÖÔ ×¾Ö¾ÖêÛúÖ׬ÖÛúÖ¸ü ÆüÖêÝÖÖ : Ûú) ×ÛúÃÖß ‹Ûú µÖÖ ÃÖ³Öß ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúÖŸÖÖÔ†Öë ÃÖê ²ÖÖŸÖ“ÖßŸÖ Ûú¸ü®ÖÖ, ÜÖ) šêüÛêú¤üÖ¸ü (šêüÛêú¤üÖ¸üÖë) Ûêú ²Öß“Ö ÛúÖ´Ö ²ÖÖÓ™ü®ÖÖ, ÝÖ) ×ÛúÃÖß ‹Ûú µÖÖ ÃÖ³Öß ×®Ö×¾Ö¤üÖ†Öë ÛúÖê Ûú×¯Ö ¯ÖæÞÖÔ µÖÖ †ÖÓ׿ÖÛú ºþ¯Ö ´Öë ®ÖÖ´ÖÓ•Öæ¸ü Ûú¸ü®ÖÖ, ‘Ö) ¯ÖÏßÖÖ×¾ÖŸÖ µÖÖ Ã¾ÖßÛéúŸÖ ™ïüÛú »ÖÖ׸üµÖÖë ÛúÖê ×ÛúÃÖß ³Öß šêüÛêú¤üÖ¸ü ÛúÖê ÃÖ´Ö®Öã¤êü×¿ÖŸÖ Ûú¸ü®ÖÖ ŸÖ£ÖÖ ’û) ‡ÃÖ ×®Ö×¾Ö¤üÖ Ûêú ×»Ö‹ ×®ÖµÖãŒŸÖ ×Ûú‹ ÝÖ‹ šêüÛêú¤üÖ¸ü / šêüÛêú¤üÖ¸üÖë ÛúÖê ×ÛúÃÖß ¯ÖÏÛúÖ¸ü Ûúß ÃÖæ“Ö®ÖÖ ×¤ü‹ ײ֮ÖÖ, ×ÛúÃÖß ³Öß ÃÖ´ÖµÖ †×ŸÖ׸üŒŸÖ šêüÛêú¤üÖ¸üÖë / ™ïüÛú »ÖÖ׸üµÖÖë ÛúÖê ÛúÖ´Ö ¯Ö¸ü »ÖÝÖÖ®ÖÖ … 9. ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ ÛúÖê »Ö¤üÖ®Ö / ˆŸÖÖ¸ü Ã£Ö»Ö / ãֻÖÖë ŸÖ£ÖÖ ´ÖÖÝÖÔ / ´ÖÖÝÖÖí Ûúß ¯Ö׸ü“ÖÖ»Ö®ÖßµÖ / ãÖÖ®ÖßµÖ ×ãÖןֵÖÖë ÛúÖ †¬µÖµÖ®Ö

  • Ûú¸ü®ÖÖ “ÖÖ×Æü‹ … ´ÖÖ®ÖÖ •ÖÖ‹ÝÖÖ ×Ûú ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ ®Öê ×®Ö×¾Ö¤üÖ ¯ÖÏßÖãŸÖ Ûú¸ü®Öê ÃÖê ¯Öæ¾ÖÔ, Ã£Ö»Ö Ûúß ´ÖÖî•Öæ¤ üÖ ÛúÖµÖÔ-×ãÖ×ŸÖ Ûúß ¯Öæ¸üß •ÖÖ®ÖÛúÖ¸üß ¯ÖÏÖŸ¯Ö Ûú¸ü »Öß Æîü …

    10. ×®Ö×¾Ö¤üÖ Ûêú ×®ÖµÖ´Ö ‹¾ÖÓ ¿ÖŸÖÖí ÛúÖê ¯Öæ¸üÖ ®Ö Ûú¸ü®Öê ¾ÖÖ»Öß µÖÖ ×ÛúÃÖß ³Öß ¥ü×™ü ÃÖê †¬Öæ¸üß ×®Ö×¾Ö¤üÖ†Öë ÛúÖê †£Ö¾ÖÖ ‹êÃÖß ×®Ö×¾Ö¤üÖ†Öë

    ÛúÖê וִ֮Öë ÛúÖ™ü-”ûÖÓ™ü Ûúß ÝÖ‡Ô/Ûãú”û ×´Ö™üÖµÖÖ ÝÖµÖÖ µÖÖ ÃÖÓ¿ÖÖ×¬ÖŸÖ ×ÛúµÖÖ ÝÖµÖÖ ÆüÖê, ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ ÃÖê ×ÛúÃÖß ¯ÖÏÛúÖ¸ü ÛúÖ ¯Ö¡ÖÖ“ÖÖ¸ü ×Ûú‹ ײ֮ÖÖ ¯Öæ¸üß ŸÖ¸üÆü ®ÖÖ´ÖÓ•Öæ¸ü Ûú¸ü פüµÖÖ •ÖÖ‹ÝÖÖ †Öî¸ü ‡ÃÖ ÃÖÓ²ÖÓ¬Ö ´Öë ²Ö߯ÖßÃÖß‹»Ö ÛúÖ ×®ÖÞÖÔµÖ †Ó×ŸÖ´Ö †Öî¸ü ²ÖÖ¬µÖ ÆüÖêÝÖÖ …ü

    11. Ûú. µÖפü ²Ö߯ÖßÃÖß‹»Ö ÛúÖê ´ÖÖî•Öæ¤üÖ Ûîú׸üµÖ¸ü ÃÖê †×ŸÖ׸üŒŸÖ ™ïüÛú »ÖÖ׸üµÖÖÑ »Öê®Öê Ûúß †Ö¾Ö¿µÖÛúŸÖÖ ¯Ö›Ìüß, ŸÖÖê ‡®Æëü Ûîú׸üµÖ¸ü Ûêú ÃÖÖ£Ö ÃÖÓ²Ö¨ü ãÖÖ®ÖÖë Ûêú ×»Ö‹ ×®ÖÞÖáŸÖ ¤ü¸üÖë ¯Ö¸ü ×»ÖµÖÖ •ÖÖ‹ÝÖÖ … ÜÖ. ²Ö߯ÖßÃÖß‹»Ö ÛúÖê †×ŸÖ׸üŒŸÖ ™ïüÛú »ÖÖ׸üµÖÖë Ûúß †Ö¾Ö¿µÖÛúŸÖÖ ÆüÖê®Öê ¯Ö¸ü ÛÓú¯Ö®Öß ÛúÖê ÃÖÓ²Ö¨ü ãÖÖ®ÖÖë Ûêú ×»Ö‹ ×®ÖÞÖáŸÖ ¤ü¸üÖë ¯Ö¸ü ®Ö‹ ™ÒüÖÓÃÖ¯ÖÖê™Ôü¸üÖë ÛúÖê ¿ÖÖ×´Ö»Ö Ûú¸ü®Öê ÛúÖ †×¬ÖÛúÖ¸ü ÆüÖêÝÖÖ …

    12. ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ ÛúÖê ×®Ö×¾Ö¤üÖ¯Ö¡Ö ´Öë ´ÖÖÓÝÖÖ ÝÖµÖÖ ÃÖ´ÖÃŸÖ ×¾Ö¾Ö¸üÞÖ †Öî¸ü ÃÖ³Öß ÃÖÓ»ÖÝ®ÖÛú ¯ÖÏßÖãŸÖ Ûú¸ü®Öê ÆüÖëÝÖë … µÖפü ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ ¯Ö¸ü ÛúÖê‡Ô ÃÖæ“Ö®ÖÖ »ÖÖÝÖæ ®Ö ÆüÖêŸÖß ÆüÖê, ŸÖÖê ¯ÖÏŸµÖêÛú ´Ö¤ü Ûêú ÃÖÖ´Ö®Öê “»ÖÖÝÖæ ®ÖÆüà” ×»ÖÜÖ®ÖÖ ÆüÖêÝÖÖ … ´ÖÖÓÝÖß ÝÖ‡Ô ÃÖæ“Ö®ÖÖ/ÃÖÓ»ÖÝ®ÖÛú ¯ÖÏßÖãŸÖ

    ®Ö Ûú¸ü®Öê Ûêú ÛúÖ¸üÞÖ ×®Ö×¾Ö¤üÖ ÛúÖê ®ÖÖ´ÖÓ•Öæ¸ü ×ÛúµÖÖ •ÖÖ ÃÖÛúŸÖÖ Æîü … 13. एनआिएल िीयू हेतु ननववदा हमािे एनआिएल, ड्यू, नुमालीगढ़, जिला गोलाघाट, असम में हदनांक 06.04.2015 को 14:30 बि ेखोली िाएंगी । ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ ×®ÖµÖŸÖ ×ŸÖ×£Ö †Öî¸ü ÃÖ´ÖµÖ ¯Ö¸ü †¯Ö®Öê ¯ÖÏÖ׬ÖÛéúŸÖ ¯ÖÏןÖ×®Ö×¬Ö ÛúÖê ³Öê•ÖÛú¸ü ×®Ö×¾Ö¤üÖ ÛúÖ ÜÖÖê»ÖÖ •ÖÖ®ÖÖ ¤êüÜÖ ÃÖÛúŸÖê Æïü … “ŸÖÛú®ÖßÛúß ²ÖÖê×»ÖµÖÖë” Ûúß •ÖÖÓ“Ö ¯Ö›ÌüŸÖÖ»Ö Ûú¸ü®Öê Ûêú ¯Ö¿“ÖÖŸÖË ÃÖãµÖÖêÝµÖ ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ†Öë ÛúÖê “´Öæ»µÖ ²ÖÖê»Öß” ÜÖÖê»Ö®Öê Ûúß ŸÖÖ¸üßÜÖ, ÃÖ´ÖµÖ †Öî¸ü ãÖÖ®Ö Ûêú ²ÖÖ¸êü ´Öë †×¬ÖÃÖæ×“ÖŸÖ Ûú¸ü פüµÖÖ •ÖÖ‹ÝÖÖ … 14. ³ÖÖ¸üŸÖ ¯Öê™ÒüÖê×»ÖµÖ´Ö ÛúÖò¯ÖÖì¸êü¿Ö®Ö ×»Ö×´Ö™êü›ü ÛúÖê ×ÛúÃÖß µÖÖ ÃÖ³Öß ×®Ö×¾Ö¤üÖ†Öë ÛúÖê †ÖÓ׿ÖÛú µÖÖ ÃÖ´¯ÖæÞÖÔ ºþ¯Ö ´Öë ´ÖÓ•Öæ¸ü µÖÖ ®ÖÖ´ÖÓ•Öæ¸ü Ûú¸ü®Öê †£Ö¾ÖÖ ×ÛúÃÖß ‹Ûú µÖÖ ÃÖ³Öß ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ†Öë Ûêú ÃÖÖ£Ö ²ÖÖŸÖ“ÖßŸÖ Ûú¸ü®Öê †£Ö¾ÖÖ ×²Ö®ÖÖ ÛúÖê‡Ô ÛúÖ¸üÞÖ ²ÖŸÖÖ‹ ‡ÃÖ ×®Ö×¾Ö¤üÖ ÛúÖê ¾ÖÖׯÖÃÖ »Öê®Öê/¸ü§ü Ûú¸ü®Öê/ÃÖÓ¿ÖÖê×¬ÖŸÖ Ûú¸ü®Öê ÛúÖ, †£Ö¾ÖÖ ¯ÖÏßÖÖ×¾ÖŸÖ Ûúß ÝÖ‡Ô ÃÖ³Öß µÖÖ Ûãú”û ™ïüÛú »ÖÖ׸üµÖÖë ÛúÖê ´ÖÓ•Öæ̧ ü Ûú¸ü®Öê ÛúÖ †×¬ÖÛúÖ¸ü ÆüÖêÝÖÖ …

    15. ×®Ö×¾Ö¤üÖ ´Öë ˆ×»»Ö×ÜÖŸÖ ™ïüÛú »ÖÖ׸üµÖÖë Ûêú ¯ÖÖÃÖ ÃÖ³Öß ×¾Ö׬ִÖÖ®µÖ ¤üßÖÖ¾Öê•Ö •ÖîÃÖê ×¾ÖñúÖê™üÛú »ÖÖ‡ÃÖëÃÖ, †Ó¿Ö´ÖÖ¯Ö®Ö ¯ÖÏ´ÖÖÞÖ ¯Ö¡Ö, ¯ÖÓ•ÖßÛú¸üÞÖ ¯ÖÏ´ÖÖÞÖ ¯Ö¡Ö †Öפü ÆüÖê®Öê •Öºþ¸üß Æïü …

    16. ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ ÛúÖê “´Öæ»µÖ ²ÖÖê»Öß” ´Öë ‡Õ¬Ö®Ö »ÖÖÝÖŸÖ ÃÖ×ÆüŸÖ ¤ü¸ëü ˆ é̈üŸÖ Ûú¸ü®Öß ÆüÖëÝÖß … ×Ûú®ŸÖã ÃÖ±ú»Ö ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ ÛúÖê

    ²Ö߯ÖßÃÖß‹»Ö «üÖ¸üÖ ÛúÖ´Ö ¯Ö¸ü ŸÖî®ÖÖŸÖ ™ïüÛú »ÖÖ׸üµÖÖë Ûêú ×»Ö‹ ²Ö߯ÖßÃÖß‹»Ö Ûêú ôÖÖ™Ôü °»Öß™ü ׸ü™êü»Ö †Öˆ™ü»Öê™üÖë ÃÖê ‡Õ¬Ö®Ö / »Öã²ÖÎßÛëú™ü ÜÖ¸üߤü®ÖêÆüÖêÝÖë … ‡ÃÖ ¯ÖÏÖµÖÖê•Ö®Ö Ûêú ×»Ö‹ ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ ÛúÖê †¯Ö®Öß ‡Õ¬Ö®Ö •Öºþ¸üŸÖÖë Ûêú ×»Ö‹ ÃÖß ‹´Ö ‹ÃÖ °»Öß™ü ÛúÖ›Ôü ÃÛúß´Ö Ûêú †ÓŸÖÝÖÔŸÖ†¯Ö®ÖÖ ®ÖÖ´Ö ¤ü•ÖÔ Ûú¸üÖ®ÖÖ ÆüÖêÝÖÖ … ¯ÖÏÖ¸Óü³Ö ´Öë, Û îú׸üµÖ¸ü Ûêú ´ÖÖ×ÃÖÛú ¯Ö׸ü¾ÖÆü®Ö ×²Ö»Ö Ûúß ×²ÖØ»ÖÝÖ ¸üÖ×¿Ö ´Öë ÃÖê ®µÖæ®ÖŸÖ´Ö 25% ÛúÖ™ü Ûú¸ü ˆÃÖê ÃÖß ‹´Ö ‹ÃÖ °»Öß™ü ÛúÖ›Ôü ÜÖÖŸÖê ´Öë •Ö´ÖÖ Ûú¸üÖ ×¤üµÖÖ •ÖÖµÖêÝÖÖ … ×Ûú®ŸÖã Ûú´¯Ö®Öß ÛúÖê Ûîú׸üµÖ¸ü Ûêú ÃÖß ‹´Ö ‹ÃÖ ÜÖÖŸÖê ´Öë •Ö´ÖÖ Ûú¸ü®Öê ÆêüŸÖã ×²Ö»Ö ¸üÖ×¿Ö ´Öë ÃÖê Ûú™üÖîŸÖß ÛúÖ ¯ÖÏ×ŸÖ¿ÖŸÖ ÃÖÓ¿ÖÖê×¬ÖŸÖ Ûú¸ü®Öê ÛúÖ †×¬ÖÛúÖ¸ü Æîü …

    17. ²Ö߯ÖßÃÖß‹»Ö ™ïüÛú »ÖÖ׸üµÖÖë Ûêú ×»Ö‹ ‹Ûú ‹ÛúßÛéúŸÖ ×®Ö¯ÖÖ¤ü®Ö ¯ÖϲÖÓ¬Ö®Ö ¯ÖÏÞÖÖ»Öß »ÖÖÝÖæ Ûú¸êüÝÖÖ ×•ÖÃÖÛúÖ ²µÖÖî¸üÖ ÃÖÓ»ÖÝ®ÖÛú 5 ÜÖÞ›ü

    6(1) ´Öë פüµÖÖ Æãü†Ö Æîü †Öî¸ü ÃÖ³Öß ÃÖ±ú»Ö ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ†Öë ¯Ö¸ü »ÖÖÝÖæ ÆüÖêÝÖß … ˆŒŸÖ ¯ÖÏÞÖÖ»Öß ´Öë ×®Ö¯ÖÖ¤ü®Ö ÛúÖ †ÖÛÓú»Ö®Ö Ûú¸ü®Öê ÆêüŸÖã ®Ö‡Ô ¯Ö¨üןֵÖÖë/ÃÛúÖêظüÝÖ ¯ÖÏ£ÖÖ Ûúß ¿Öãºþ†ÖŸÖ ÛúÖê ¿ÖÖ×´Ö»Ö ×ÛúµÖÖ •ÖÖ ÃÖÛúŸÖÖ Æîü …

    18. ×ÛúÃÖß ³Öß ŸÖê»Ö Ûú´¯Ö®Öß «üÖ¸üÖ ÛúÖ»Öß ÃÖæ“Öß ´Öë ›üÖ»Öê ÝÖµÖê ¯Öײ»ÖÛú Ûîú׸üµÖ¸ü ¾ÖÖÆü®Ö †Ö¯Ö¸êü™ü¸üÖë (¯Öß ÃÖß ¾Öß †Öê) / ™ïüÛú »ÖÖ׸üµÖÖë

    ÛúÖê ‡ÃÖ ×®Ö×¾Ö¤üÖ ´Öë ³ÖÖÝÖ »Öê®Öê ÛúÖ ÆüÛú ®ÖÆüà Æîü … ³Ö×¾Ö嵅 ´Öë ÛúÖ»Öß ÃÖæ“Öß ´Öë ›üÖ»Öß •ÖÖ®Öê ¾ÖÖ»Öß ™ïüÛú »ÖÖ¸üß Ûêú ²Ö¤ü»Öê ´Öë ÛúÖê‡Ô ®Ö‡Ô ™ïüÛú »ÖÖ¸üß ¤êü®Öê Ûúß †®Öã́ Ö×ŸÖ ®ÖÆüà ÆüÖêÝÖß …

  • 18. ÃÖ´ÖµÖ-ÃÖ´ÖµÖ ¯Ö¸ü Ûú´¯Ö®Öß «üÖ¸üÖ ×®ÖÙ¤ü™ü ¾ÖÖÆü®Ö ™ÒîüØÛúÝÖ ¯ÖÏÞÖÖ»Öß ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ †¯Ö®Öê ÜÖ“Öì ÃÖê »ÖÖ¸üß ´Öë »ÖÝÖ¾ÖÖµÖêÝÖÖ : µÖÆü †×®Ö¾ÖÖµÖÔ ¿ÖŸÖÔ Æîü … 19. ‹“Ö ‹ÃÖ ›üß Ûêú †»ÖÖ¾ÖÖ ×ÛúÃÖß †®µÖ ‡Õ¬Ö®Ö ÃÖê “Ö»Ö®Öê ¾ÖÖ»Öß ™ïüÛú »ÖÖ׸üµÖÖë ÛúÖê ²ÖÖê»Öß Ûêú ×»Ö‹ †®Öã̄ ÖµÖãŒŸÖ ´ÖÖ®Ö •ÖÖ‹ÝÖÖ 20. ‡ÃÖ šêüêÛêú ÛúÖê ¤êü®Öê µÖÖ ×ÛÎúµÖÖ®¾ÖµÖ®Ö Ûú¸®Öê Ûúêúú×»Ö‹ ˆ¢Ö¸ü¤üÖµÖß ²Ö߯ÖßÃÖß‹»Ö ´Öë ÛúÖ´Ö Ûú¸ü®Öê ¾ÖÖ»Öê

    Ûú´ÖÔ“ÖÖ¸üß/Ûú´ÖÔ“ÖÖ׸üµÖÖëÛúêúúÃÖÓ²ÖÓ׬ֵÖÖë (ÃÖÓ»ÖÝÖ®Ö ÃÖæ“ÖßÛúêúú†®ÖÖãÃÖÖ¸ü)ÛúÖê µÖÆü ×®Ö×¾Ö¤üÖ ³Ö¸®Öê Ûúß †®Öã´Ö×ŸÖ ®ÖÆüà ÆüÖêÝÖß … ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ ÛúÖ ¤üÖ×µÖŸ¾Ö ÆüÖêÝÖÖ ×Ûú ¾ÖÆü ˆÃÖ ¾µÖŒ×ŸÖ/¾µÖÛןֵÖÖëÛúêúú®ÖÖ´Ö ²ÖŸÖÖ‹ •ÖÖê ²Ö߯ÖßÃÖß‹»Ö ÛúêúúµÖÖ ‡ÃÖÛúß ÃÖÆüµÖÖêÝÖß ÓÛú¯Ö×®ÖµÖÖë, •ÖîÃÖê †Ö‡Ô†ÖêÃÖß µÖÖ ‹“Ö¯ÖßÃÖß Ûúêúú×ÛúÃÖß Ûú´ÖÔ“ÖÖ¸üß/Ûú´ÖÔ“ÖÖ׸üµÖÖëÛúêúú†£Ö¾ÖÖ ¸üÖ•µÖ µÖÖ Ûêú®¦ü ÃÖ¸üÛúÖ¸üÛúêúú†×¬ÖÛúÖ¸üß Ûúêúú×®ÖÛú™ü ÃÖÓ²ÖÓ¬Öß ÆüÖë, †£Ö¾ÖÖ •ÖÖê ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔÛúêúúÃÖÖ£Ö ÛúÖ´Ö Ûú¸®Öê ¾ÖÖ»Öê ˆÃÖêÛú Ûú´ÖÔ“ÖÖ¸üß ÆüÖë µÖÖ ²ÖÖ¤ü ´Öë ˆÃÖêÛú ¯ÖÖÃÖ ×®ÖµÖãŒŸÖ Æãü‹ ÆüÖë … ‡ÃÖ ¿ÖŸÖÔÛúêúúˆ»»ÖÓ‘Ö®Ö ÛúÖê, ‡ÃÖÛêúú ²ÖÖ¸êü ´Öë šêüÛúÖ ÃÖÖï¯ÖÖ •ÖÖ®Öê Ûúêúú²ÖÖ¤ü ¯ÖŸÖÖ “Ö»Ö®Öê ¯Ö¸ü ³Öß, ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ «üÖ¸üÖ üšüêüÛúêú ÛúÖ ˆ»»ÖÓ‘Ö®Ö ´ÖÖ®ÖÖ •ÖÖ‹ÝÖÖÖ ×•ÖÃÖ´Öë ²Ö߯ÖßÃÖß‹»Ö ÛúÖê ‡ÃÖ ²ÖÖ¸êü ´Öë ˆ¯Ö»Ö²¬Ö †¯Ö®Öê ÃÖ³Öß †×¬ÖÛúÖ¸üÖë †Öî¸ü ˆ¯ÖÖµÖÖë ÛúÖê ¯ÖϵÖÖêÝÖÖ Ûú¸®Öê ÛúÖ †×¬ÖÛúÖ¸ü ÆüÖêÝÖÖ, וÖÃÖ´Öë šêüÛúÖ ¸ü§ü Ûú¸ü ¤ê®ÖÖ ³Öß ¿ÖÖ×´Ö»Ö ÆüÖêÝÖÖ…

    21. हमािे एनआिएल िीयू, नुमालीगढ़, जिला गोलाघाट, असम में हदनांक 19.03.2015 को

    10.30 बि ेएक बोली-पूवभ बैठक आयोजित की िाएगी । सर्ी इच्छुक ननववदाकािों को इस बैठक में र्ाग लेन े के ललए अनुिोध ककया िाता है , जिसमें ननववदा की मुख्य ववशषेताओं को समझाया िाएगा औि आवश्यक स्पष्टीकिण की आवश्यकता होती है तो स्पष्टीकिण र्ी हदया िाएगा ।

    ²Öß . ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ†Öë ÛúÖ ´Ö滵ÖÖÓÛú®Ö :

    1. इस सावभिननक ननववदा को तकनीकी बोली औि मलू्य बोली यानी दो बोली प्रणाली में िािी ककया गया है । तकनीकी बोली ननधाभरित नतथि औि स्िान पि पहली बाि खोला िाएगा । औि मूल्यांकन ककया िाएगा । इलेक्ट्रॉननक मूल्य बोली तकनीकी बोली मूल्यांकन के परिणाम के आधाि पि, केवल तकनीकी रूप से योग्य ननववदाकताभओं के ललए आयोजित ककया िाएगा । इलेक्ट्रॉननक मूल्य बोली पूवभ ननधाभरित नतथि पि ही ककया िाएगा औि तकनीकी रूप से योग्य ननववदाकताभओं को ही सूथचत ककया िाएगा ।

    2. ´Öæ»µÖ ²ÖÖê»Öß ´Öë ×®Ö´®Ö×»Ö×ÜÖŸÖ 6 õÖê¡ÖÖë Ûúêúú†ÓŸÖÝÖÔŸÖ, ¯ÖÏŸµÖêÛú õÖ´ÖŸÖÖ Ûúß ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖë Ûúß ¤ü¸üÖëÛúêúú¯ÖÏßÖÖ¾Ö ¿ÖÖ×´Ö»Ö ×Ûú‹ ÝÖ‹ Æïü :-

    (i) ¸üÖ•µÖ Ûúêúú³Öߟָüß õÖê¡ÖÖë ´Öë º . ¯ÖÏ×ŸÖ Ûúêúú.‹»Ö . ×›ü»Öß¾Ö¸üß … (ii) ¸üÖ•µÖ Ûúêúú†®¤üü̧ ü ¯ÖîÃÖê ¯ÖÏ×ŸÖ Ûúêú.‹»Ö. ¯ÖÏ×ŸÖ ×Ûú.´Öß. ×›ü»Öß¾Ö¸üß …

    (iii) ¸üÖ•µÖ üÛúêúú²ÖÖÆü¸ü ¯ÖîÃÖê ¯ÖÏ×ŸÖ Ûúêú.‹»Ö . ¯ÖÏ×ŸÖ ×Ûú.´Öß. ×›ü»Öß¾Ö¸üß … (iv) िाज्य के अंदि डिललविी बीएफ़िीज़ेि पहाड़ी क्षेिों के ललए पैसे प्रनत केएल प्रनत ककलोमीटि । (v) िाज्य के बाहि 1 िाज्य से समबद्ध डिललविी बीएफ़िीज़ेि पहाड़ी क्षेिों के ललए पैसे प्रनत केएल

    प्रनत ककलोमीटि ।

  • (vi) िाज्य के बाहि 2 िाज्य से समबद्ध डिललविी बीएफ़िीज़ेि पहाड़ी क्षेिों के ललए पैसे प्रनत केएल

    प्रनत ककलोमीटि । फ्री डिललविी ज़ोन = एफ़िीज़ेि, त्रबयोंि फ्री डिललविी ज़ोन = बीएफ़िीज़ेि

    ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ†Öë ÛúÖê ˆ®ÖÛêúú «üÖ¸üÖ ¯ÖÏßÖãŸÖ Ûúß •ÖÖ®Öê ¾ÖÖ»Öß ¯ÖÏŸµÖêÛú õÖ´ÖŸÖÖ Ûúß ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖëÛúêúú×»Ö‹ ˆ¯Ö¸üÖêŒŸÖ ÃÖ³Öß õÖê¡ÖÖë Ûúêúú×»Ö‹ †»ÖÝÖ-†»ÖÝÖ ¤ü¸ëü ×®Ö¾ÖêפüŸÖ Ûú¸ü®Öß ÆüÖêÝÖß …

    ²Ö߯ÖßÃÖß‹»Ö ¯ÖÏŸµÖêÛú õÖê¡Ö Ûúêúú×»Ö‹ †®Öã´ÖÖ×®ÖŸÖ ¯Ö׸ü¾ÖÆü®Ö ¤ü¸ü Ûúß ¯Öê¿ÖÛú¿Ö Ûú ȩ̂üÝÖÖ … ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ ²Ö߯ÖßÃÖß‹»Ö «üÖ¸üÖ ¯Öê¿Ö Ûúß ÝÖ‡Ô †®Öã´ÖÖ×®ÖŸÖ ¯Ö׸ü¾ÖÆü®Ö ¤ü¸ü Ûúêúú+ / - 10% ŸÖÛú ¤ü¸ü ˆ é̈üŸÖ Ûú¸ü ÃÖÛêúÝÖê … •ÖÖê ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ ²Ö߯ÖßÃÖß‹»Ö Ûúß ×ÛúÃÖß †®Öã´ÖÖ×®ÖŸÖ ¯Ö׸ü¾ÖÆ®Ö ¤ü¸ üÛúêúú+ / - 10% ÃÖê †×¬ÖÛú ¤ü¸ü ˆ¨üŸÖ Ûú ȩ̈ÝÖê ˆ®Æëü †®ÖÆÔü ´ÖÖ®ÖÖ •ÖÖµÖÝÖÖ †Öî¸ü ˆ®ÖÛúß ×®Ö×¾Ö¤üÖ ®ÖÖ´ÖÓ•Öæ¸ü Ûú¸ü ¤üß •ÖÖµÖêÝÖß …

    3. ™ïüÛú »ÖÖò¸üß Ûúß õÖ´ÖŸÖÖÛúêúú†®ÖãÃÖÖ¸ü ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ†Öë ÛúÖ ‹»Ö-1,‹»Ö-2, ‹»Ö-3 ‡ŸµÖÖפü ÁÖêÞÖßµÖÖë ´Öë ÁÖÞÖßÛú¸ÞÖ Û¸®Öê ÛúÖ ×®ÖÞÖÔµÖ

    ¸üÖ•µÖÛúêúúÃÖ³Öß ŸÖß®ÖÖ õÖê¡ÖÖë Ûúêúú×»Ö‹ ×®Ö¾ÖêפüŸÖ ¤ü¸üÖë ŸÖ£ÖÖ ¸üÖ•µÖ Ûúêúú¯ÖÏŸµÖêÛú õÖê¡Ö ´Öë ¾µÖ¾ÖÃÖÖµÖ Ûúß ¯ÖÏŸµÖÖ×¿ÖŸÖ ´ÖÖ¡ÖÖ ¯Ö¸ü ×¾Ö“ÖÖ¸ü Ûú¸üÛêúú ‡ÃÖ ¯ÖÏÛúÖ¸ü ×ÛúµÖÖ •ÖÖ‹ÝÖÖ ×Ûú ²Ö߯ÖßÃÖß‹»Ö ¯Ö¸ü ×¾Ö¢ÖßµÖ ³ÖÖ¸ü Ûú´Ö ÃÖê Ûú´Ö ¯Ö›Íêü … µÖפü ×ÛúÃÖß ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ Ó ®Öê ˆ¯Ö¸üÖêÛŸÖ õÖê¡ÖÖë ´Öë ÃÖê ×ÛúÃÖß õÖê¡Ö Ûúêúú×»Ö‹ †¯Ö®Öß ¤ü¸ëü ×®Ö¾ÖêפüŸÖ ®Ö Ûúß ÆüÖë, ŸÖÖê ˆŒŸÖ ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔÛúêúúÁÖ êÞÖÖßÛú¸ÞÖ Ûúêúúˆ§êü¿µÖ ÃÖê ˆÃÖ õÖê¡Ö ´Öë ŸÖÛú®ÖßÛúß ¥ü™ü ÃÖê ÃÖÖ±ú»Ö ×ÛúÃÖß ³Öß ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ «üÖ¸üÖ ×®Ö¾ÖêפüŸÖ ˆ““ÖŸÖ´Ö ¤ü¸üÖë ¯Ö¸ü ×¾Ö“ÖÖ¸ü ×ÛúµÖÖ •ÖÖ‹ÝÖÖÖ …

    4. ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ ÛúÖê ˆ®ÖÛúß ÁÖêÞÖß Ûúêúú†®ÖãÃÖÖ¸ü †Ö¸üÖêÆüß ÎÛú´Ö ´Öë ÃÖæ“Öß²Ö¨ü ×ÛúµÖÖ •ÖÖ‹ÝÖÖÖ … ÓÛú¯Ö®Öß ¯Ö¸ü ®µÖæ®ÖŸÖ´Ö ×¾Ö¢ÖßµÖ ³ÖÖ¸ü ›üÖ»Ö®Öê ¾ÖÖ»Öê ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ ÛúÖê ‹»Ö-1 ÁÖêÞÖß ´Öë ¸ÜÖÖ •ÖÖ‹ÝÖÖ … †ÝÖ»ÖÖ ®µµÖ殟ִÖÖ ×¾Ö¢ÖßµÖ ³ÖÖ¸ü ›üÖ»Ö®Öê ¾ÖÖ»Öê ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ ÛúÖê ‹»Ö-2 ÁÖêÞÖß ´Öë ¸ÜÖÖ •ÖÖ‹ÝÖÖ, ŸÖ£ÖÖ ÁÖêÞÖßÛú¸ÞÖ †ÖÝÖê ‡ÃÖß ¯ÖÏÛúÖ¸ü •ÖÖ¸üß ¸üÆÝÖÖ … ‡ÃÖ ÃÖæ“Öß ´Öë ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ†Öë «üÖ¸üÖ ×®Ö¾ÖêפüŸÖ ¤ü¸üÖë ÛúêúúÃÖÖ£Ö-ÃÖÖ£Ö ˆ®ÖÛêúú «üÖ¸üÖ ¯ÖÏßÖÖ×¾ÖŸÖ ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖë Ûúß ÃÖܵÖÖ ¯Ö¸ü †Ö¬ÖÖ׸üŸÖ ÁÖêÞÖÖßÛú¸ÞÖ ´Öë ¿ÖÖ×´Ö»Ö ŸÖÛú®ÖßÛúß ¥ü™ü ÃÖê ÃÖ±ú»Ö ÃÖ³Öß ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ ¿ÖÖ×´Ö»Ö ÆüÖêÝÖê …

    5. µÖפü, ‹»Ö-1 ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ†Öë «üÖ¸üÖ ¯ÖÏßÖÖ×¾ÖŸÖ ¤ü¸ëü ²Ö߯ÖßÃÖß‹»Ö ÛúÖê ´ÖÓ•Öæ¸ü ÆüÖëÝÖß, ŸÖÖê ‹»Ö-1 ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ†Öë «üÖ¸üÖ ×®Ö¾ÖêפüŸÖ ™ïüÛú »ÖÖ׸üµÖÖë Ûúß ÃÖÓÜÖµÖÖ ÛúÖê †Ö¾Ö¿µÖÛúŸÖÖ Û êú†®ÖãÃÖÖ¸ü ×®Ö¬ÖÖÔ׸üŸÖ Ûú¸ü ×»ÖµÖÖ •ÖÖ‹ÝÖÖ …

    6. µÖפü ‹»Ö-1 ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ†Öë «üÖ¸üÖ ×®Ö¾ÖêפüŸÖ ¤ü¸ëü ‰Ó“Öß ÆüÖêÝÖß, ŸÖÖê ˆŒŸÖ ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ†ÖëÛúêúúÃÖÖ£Ö ¾ÖÖŸÖÖÔ/¯ÖÏ×ŸÖ ¯ÖÏßÖÖ¾Ö Ûúß ÛúÖµÖÔ¾ÖÖÆüß Ûúß •ÖÖ‹ÝÖÖß … ‹êÃÖê ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖ†Öë «üÖ¸üÖ ¯ÖÏßÖÖ×¾ÖŸÖ ™ïüÛú »ÖÖ׸üµÖÖë Ûúß ÃÖÓÜÖµÖÖ ˆ®ÖÛêúú «üÖ¸üÖ ¾ÖÖŸÖÖÔ/¯ÖÏ×ŸÖ ¯ÖÏßÖÖ¾Ö Ûúêúú¤üÖî¸üÖ®Ö ´ÖÓ•Öæ̧ ü Ûúß ÝÖ‡Ô ÃÖÓ¿ÖÖê×¬ÖŸÖ ¤ü¸üÖë ¯Ö¸ü ×®Ö¬ÖÖÔ׸üŸÖ Ûúß •ÖÖ‹ÝÖß …

    7. µÖפü, ‹»Ö-1 ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ†Öë «üÖ¸üÖ ¯ÖÏßÖÖ×¾ÖŸÖ ™ïüÛú »ÖÖ׸üµÖÖë ÃÖê ÃÖ³Öß †Ö¾Ö¿µÖÛúŸÖÖ‹Ó ¯Öæ¸üß ®Ö ÆüÖêŸÖß ÆüÖë, ŸÖÖê ‹»Ö-1 ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ†Öë «üÖ¸üÖ Ã¾ÖßéÛúŸÖ ‹»Ö-1/ ÃÖÓ¿ÖÖê×¬ÖŸÖ ¤ü¸ëü ¿ÖêÂÖ ÃÖ³Öß ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ†ÖëÛúêúúÃÖ´ÖõÖ ¯ÖÏßÖãŸÖ Ûúß •ÖÖ‹ÝÖÖß, ŸÖ£ÖÖ ˆ®ÖÛúß ÁÖêÞÖß ‹¾ÖÓ Ã¾ÖßéÛú×ŸÖ Ûúêúú†Ö¬ÖÖ¸ü ¯Ö¸ü,™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖÑ ˆ¯Ö¸üÖêŒŸÖ ¤¸üüÖë ¯Ö¸ü »Öê »Öß •ÖÖ‹ÝÖß •Ö²Ö ŸÖÛú ×Ûú ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖë Ûúß ÃÖ´ÖÃŸÖ †Ö¾Ö¿µÖÛúŸÖÖ ¯Öæ¸üß ®Ö ÆüÖê •ÖÖ‹ …

    8. µÖפü ˆ¯Ö¸üÖêŒŸÖ ÛúÖµÖÔ¾ÖÖÆüßÛúêúú²ÖÖ¾Ö•Öæ¤ü ³Öß, ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖë Ûúß ÃÖ´¯ÖæÞÖÔ †Ö¾Ö¿µÖÛúŸÖÖ ¯Öæ¸üß ®Ö ÆüÖê ŸÖÖê, †®µÖ ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ†ÖëÛúêúúÃÖÖ£Ö, ˆ®ÖÛúß ÁÖêÞÖß Ûúêúú†®ÖãÃÖÖ¸ü ¾ÖÖŸÖÖÔ/ ¯ÖÏ×ŸÖ ¯ÖÏßÖÖ¾Ö Ûúß ÛúÖµÖÔ¾ÖÖÆüß ŸÖ²Ö ŸÖÛú •ÖÖ¸üß ¸üÆÝÖÖß •Ö²Ö ŸÖÛú ×Ûú ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖë Ûúß ÃÖ´¯ÖæÞÖÔ †Ö¾Ö¿µÖÛúŸÖÖ ¯Öæ¸üß ®Ö ÆüÖê •ÖÖ‹ …

    9. µÖפü ×ÛúÃÖß ÛúÖ¸üÞÖ¾Ö¿Ö, ×ÛúÃÖß ×¾Ö¿ÖêÂÖ ¸ïüØÛúÝÖ Ûêú ×»Ö‹, ™ïü »ÖÖò׸üµÖÖë Ûúß ¯Öê¿ÖÛú¿Ö Ûúß ÝÖ‡Ô ÃÖÓܵÖÖ †Ö¾Ö¿µÖÛúŸÖÖ ÃÖê †×¬ÖÛú ÆüÖê •ÖÖ‹, ŸÖ²Ö ×®Ö´®Ö×»Ö×ÜÖŸÖ ¯ÖÏÖ£Ö×´ÖÛúŸÖÖ Ûêú †®ÖãÃÖÖ¸ü ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖÑ Ûúß •ÖÖ‹ÓÝÖß :

  • Ûú) †¯Ö®Öê þÖÖ×´ÖŸ¾Ö Ûúß †×¬ÖÛú õÖ´ÖŸÖÖ ¾ÖÖ»Öß ™ïüÛú »ÖÖò¸üß Ûúß ¯Öê¿ÖÛú¿Ö Ûúß ÝÖ‡Ô ÃÖÓܵÖÖ … ÜÖ) †¯Ö®Öê þÖÖ×´ÖŸ¾Ö Ûúß ™ïüÛú »ÖÖò¸üß Ûúß ¯Öê¿ÖÛú¿Ö Ûúß ÝÖ‡Ô ÃÖÓܵÖÖ … ÝÖ) ¯Öê¿ÖÛú¿Ö Ûúß ÝÖ‡Ô Ûú´Ö †ÖµÖã ¾ÖÖ»Öß ™ïüÛú »ÖÖò¸üß Ûúß ÃÖÓܵÖÖ … ‘Ö) ¯Öê¿ÖÛú¿Ö Ûúß ÝÖ‡Ô Ûãú»Ö ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖë Ûúß ÃÖÓܵÖÖ … ×ÛúÃÖß ‹Ûú ÁÖêÞÖß ´Öë ¤ü•ÖÔ ×Ûú‹ ÝÖ‹ ™ÒüÖÓÃÖ¯ÖÖê™Ôü¸üÖë ÛúÖ ˆ¯Ö¸üÖêŒŸÖ ¯ÖÏÖ£Ö×´ÖÛúŸÖÖ ÎÛú´Ö Ûúêúú†Ö¬ÖÖ¸ü ¯Ö¸ü ¤üÖê²ÖÖ¸üÖ ´Ö滵ÖÖÓÛú®Ö ×ÛúµÖÖ •ÖÖ‹ÝÖÖ †Öî¸ü †Ö²ÖÓ™®Ö Ûêú¾Ö»Ö ˆÃÖß ÃÖ´ÖµÖ ŸÖÛú ×ÛúµÖÖ •ÖÖ‹ÝÖÖÖ •Ö²Ö ŸÖÛú ×Ûú ™ïüÛú »ÖÖ¸üß Ûúß ÃÖ´¯ÖæÞÖÔ †Ö¾Ö¿µÖÛúŸÖÖ ¯Öæ¸üß ®Ö ÆüÖê •ÖÖ‹ … ¯Ö׸ÞÖÖÖ´Öþֺ ¯Ö, ×®Ö“Ö»Öß ÁÖêÞÖß ¯ÖÖ®Öê ¾ÖÖ»Öê ™ÒüÖÓÃÖ¯ÖÖê™Ôü¸üÖë ÛúÖê ÃÖ´³Ö¾ÖŸÖµÖÖ ÛúÖê‡Ô †Ö²ÖÓ™ü®Ö ®Ö ×´Ö»Ö ¯ÖÖ‹ …

    10. ³ÖÖ¸üŸÖ ÃÖ¸üÛúÖ¸üÛúêúú×®Ö¤ìü¿ÖÖë Ûúêúú†®Ö㺠¯Ö, ×ÛúÃÖß ×¾Ö¿ÖêÂÖ ÁÖêÞÖÖß Ûúêúú×»Ö‹, †®ÖãÃÖæ×“ÖŸÖ •ÖÖןÖ/†®ÖãÃÖæ×“ÖŸÖ •Ö®Ö•ÖÖ×ŸÖ ÛúêúúŸÖÛ®ÖßÛúß º ¯Ö ÃÖê ÃÖ±ú»Ö ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ†Öë «üÖ¸üÖ ¯ÖÏßÖÖ×¾ÖŸÖ ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖë ÛúÖê ¾Ö¸üßµÖŸÖÖ ¤üß •ÖÖ‹ÝÖß …

    11. ¯Ö׸ü¾ÖÆü®Ö ÃÖê¾ÖÖ Ûúêúú´ÖÆüŸ¾Ö ÛúÖê ¤êüÜÖŸÖê Æãü‹, ÛúÖò̄ ÖÖì¸êü¿Ö ‹»Ö-1 ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ†Öë «üÖ¸üÖ †¯Ö®Öß •Öº ¸üŸÖë ¯Öæ¸üß ÆüÖê •ÖÖ®Ö êÛúêúú²ÖÖ¾Ö•Öæ¤ü,

    ‹»Ö-1 ÃÖê †×ŸÖ׸üŒŸÖ ÁÖêÞÖÖß Ûúêúú†®µÖ ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ†Ö ëÛúêúúÃÖÖ£Ö ²ÖÖŸÖ“ÖßŸÖ Ûú¸ü®ÖÖ †Öî¸ü ˆ®Æëü ÛúÖ´Ö ¤ê®ÖÖ “ÖÖÆüŸÖß Æî … †ŸÖ:, ÛúÖò̄ ÖÖì¸êü¿Ö®Ö †¯Ö®Öê ×¾Ö¾ÖêÛúÖ׬ÖÛúÖ¸ü ÃÖê †¯Ö®ÖÖ ´ÖÖ»Ö ŸÖÛú®ÖßÛúß †Öî¸ü ¾ÖÖ×ÞÖ•µÖÛú ¥ü×™ü ÃÖê ÃÖ´Ö£ÖÔ ¾Öë›ü¸üÖë Ûúêúú²Öß“Ö ²ÖÖÓ™®Öê ÛúÖ ×®ÖÞÖÔµÖ »Öê ÃÖÛúŸÖß Æîü … ‹êÃÖß ×ãÖ×ŸÖ ´Öë ×®Ö´®Ö×»Ö×ÜÖŸÖ ×¾ÖŸÖ¸ÞÖ œüÖÑ“ÖÖ †¯Ö®ÖÖµÖÖ •ÖÖ‹ÝÖÖÖ :- ÛúÖ´Ö 3 ¾Öë›ü¸üÖëÛúêúú²Öß“Ö ²ÖÖÓ™üÖ •ÖÖ‹ÝÖÖ †Öî¸ü ˆ®ÖÛêúú ²Öß“Ö †Ö²ÖÓ™ü®Ö ÛúÖ ¯ÖÏ×ŸÖ¿ÖŸÖ ‹»Ö-1 -70%, ‹»Ö-2 -20 %, ‹»Ö-3-10 % ÆüÖêÝÖÖ…

    12. µÖפü ×ÛúÃÖß ×¾Ö¿ÖêÂÖ õÖ´ÖŸÖÖ Ûúß ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖë Ûúß †Ö¾Ö¿µÖÛúŸÖÖ ¯Öæ¸üß Ûú¸ü®ÖêÛúêú×»Ö‹ ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖÓ ¯ÖµÖÖÔ¯ŸÖ ÃÖÓÜÖÖÖ ´Öë ˆ¯Ö»Ö²¬Ö ®Ö ÆüÖë, ŸÖÖê ²Ö߯ÖßÃÖß‹»Ö ‡ÃÖ ¿ÖŸÖÔ ¯Ö¸ü ÛúÖµÖÔõÖ´ÖŸÖÖ Ûúß ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖÓ »Öê ÃÖÛúŸÖÖ Æîü ×Ûú ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ ÃÖ´Ö—ÖÖîŸÖê ¯Ö¸ü ÆüßÖÖõÖ¸ü Ûú¸ü®Öê Ûúß ŸÖÖ¸üßÜÖ ÃÖê ”û: ´ÖÖÆüÛúêú³Öߟָü ˆ““Ö õÖ´ÖŸÖÖ Ûúß ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖÓ ˆ¯Ö»Ö²¬Ö Ûú¸üÖ ¤êÝÖÖ ×•Ö®ÖÛúß ²Ö߯ÖßÃÖß‹»Ö ÛúÖê †Ö¾Ö¿µÖÛúŸÖÖ Æîü, †Öî¸ü ‡ÃÖ †¾Ö׬ÖÛúêú²ÖÖ¤ü ˆ““Ö õÖ´ÖŸÖÖ Ûúß ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖë ¯Ö¸ü ‹»Ö-1 ¤ü¸ü †£Ö¾ÖÖ Ûú´Ö õÖ´ÖŸÖÖ Ûúß ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖë ¯Ö¸ü ÃÖÖÓ×¾ÖפüÛú ¤ü¸üÛúêú²Öß“Ö •ÖÖê ³Öß Ûú´Ö ÆüÖê »ÖÖÝÖæ ÆüÖêÝÖÖ … ÛúÖ´Ö ¯Ö¸ü »ÖÝÖÖ‡Ô ÝÖ‡Ô ˆ““Ö õÖ´ÖŸÖÖ Ûúß ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖëÛúêú×»Ö‹ ³ÖãÝÖŸÖÖ®Ö Ûúß ¤ü¸ü ¾ÖÆüß ÆüÖêÝÖß ×•ÖÃÖÛúÖ ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ Ûúêú ÃÖÖ£Ö Ûú¸üÖ¸ü ×ÛúµÖÖ ÝÖµÖÖ Æîü … µÖפü ÃÖ´Ö—ÖÖîŸÖê ¯Ö¸ü ÆüßÖÖõÖ¸üÛúêúÃÖ´ÖµÖ ×®Ö×¾Ö¤üÖ ÛúŸÖÖÔ Ûúêú ÃÖÖ£Ö ˆ““Ö õÖ´ÖŸÖÖ Ûúß ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖë Ûúß ¤ü¸ëü ×®Ö¬ÖÖÔ׸üŸÖ ®ÖÆüà Ûúß ÝÖ‡Õ £ÖßÓ, ŸÖÖê ÃÖ´²Ö¨ü »ÖÖêêÛú¿Ö®Ö Ûúêú×»Ö‹ ‹»Ö-1 õÖ´ÖŸÖÖ ¯Ö¸ü »ÖÖÝÖæ ¤ü¸ëü Æüß »ÖÖÝÖæ ÆüÖëÝÖß … µÖפü ˆŒŸÖ »ÖÖêêÛú¿Ö®Ö Ûêúú×»Ö‹ ˆ““Ö õÖ´ÖŸÖÖ Ûúß ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖë Ûúß ¤ü¸ü ×®Ö¬ÖÖÔ׸üŸÖ ®ÖÆüà ÆüÖë ŸÖÖê ¸üÖ•µÖ ´Öë ×®ÖÛú™üŸÖ´Ö »ÖÖêêÛú¿Ö®Ö ¯Ö¸ü »ÖÖÝÖæ ¤ü¸üÖë ÛúÖê »ÖÖÝÖæ ×ÛúµÖÖ •ÖÖ‹ÝÖÖ …

    13. एलओआई िािी होने के बाद टैंक लॉिी नहीं उपलब्ध किाने की जस्िनत में दोषी होगा:

    ए.पूरी तरह से टैंक लॉरी उपलब्ध नहीं कराने की जस्िनत में – िमानत िालश िब्त किने के साि 2 वषभ के ललए अयोग्य किाि हदया िाएगा ।

    बी. आंलशक रूप से टैंक लॉरी उपलब्ध नहीं कराने की जस्िनत में – i. िमानत िालश की उच्चतम सीमा तक प्रनत टैंक लॉिी 1 लाख रुपये िमानत िालश से िब्त की

    िाएगी । ii. ट्रांस्पोटभि द्वािा टैंक लॉरियों की पूिी संख्या पूणभ नहीं किने पि (यहााँ तक की एक टैंक लॉिी र्ी )

    एलओआई ननिस्त ककया िाएगा औि ठेका िद्द ककया िाएगा ।

    ÃÖß •Ö´ÖÖ®ÖŸÖ ¸üÖ×¿Ö :

  • 1. ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ ¯ÖÏßÖÖ×¾ÖŸÖ ¯ÖÏŸµÖêÛú ™ïüÛú »ÖÖ¸üß ¯Ö¸ü 5000/- º . ¯ÖÏ×ŸÖ ™ïüÛú »ÖÖ¸üß Ûúß ¤ü¸ü ÃÖê †×ÝÖÏ´Ö •Ö´ÖÖ ¸üÖ×¿Ö ³ÖãÝÖŸÖÖ®Ö Ûú¸êÝÖÖ … ˆ®Ö ×®Ö×¾Ö¤üÖ†Öë ÛúÖê ®ÖÖ´ÖÓ•Öæ¸ü Ûú¸ü פüµÖÖ •ÖÖ‹ÝÖÖÖ ×•Ö®ÖÛêúú ÃÖÖ£Ö ¯ÖÏŸµÖêÛú ™ïüÛú »ÖÖò¸üßÛúêúú×»Ö‹ 5000/- º.. Ûúß †×ÝÖÏ´Ö •Ö´ÖÖ ¸üÖ×¿Ö ®Ö •Ö´ÖÖ ®ÖÆüà Ûú¸üÖ‡Ô ÝÖ‡Ô ÆüÖêÝÖß … †×ÝÖÏ´Ö •Ö´ÖÖ ¸üÖ×¿Ö ÛúÖ ³ÖãÝÖŸÖÖ®Ö ³ÖÖ¸üŸÖ ¯Öê™ÒüÖê×»ÖµÖ´Ö ÛúÖò̄ ÖÖì¸êü¿Ö®Ö ×»Ö ÛúÖê»ÖÛúÖŸÖÖ, Ûúêúú¯ÖõÖ ´Öë ×ÛúÃÖß ³Öß †®ÖãããÃÖæ×“ÖŸÖ (¿Öê›ü¶æ»›ü) ²ÖïÛú ¯Ö¸ü †ÖÆü׸üŸÖ ×›ü´ÖÖÓ›ü ›ÒüÖ°™üÛúêúúº ¯Ö ´Öë Ûú¸ü®ÖÖ ÆüÖêÝÖÖ •ÖÖê ÛúÖê»ÖÛúÖŸÖÖ »ÖÖêêÛú¿Ö®Ö ¯Ö¸ü ¤êüµÖ ÆüÖêÝÖÖ…

    2. ¾Öê²ÖÃÖÖ‡™ü ÃÖê ›üÖˆ®Ö»ÖÖê›ü ×ÛúµÖê ÝÖµÖê ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúêúúÃÖÖ£Ö ³ÖÖ¸üŸÖ ¯Öê™ÒüÖê×»ÖµÖ´Ö ÛúÖò̄ ÖÖì¸êü¿Ö®Ö ×»Ö×´Ö™êü› üÛúêúú®ÖÖ´Ö ÛúÖê»ÖÛúÖŸÖÖ ¯Ö¸ü ¤êüµÖ ¯ÖÏŸµÖêÛú ÃÖê™ü Ûúêúú×»Ö‹ ×ÛúÃÖß †®ÖããÃÖæ×“ÖŸÖ ²ÖîÓÛú ¯Ö¸ü †ÖÆü׸üŸÖ 1123.60/- º . ÛúÖ ×›ü´ÖÖÓ›ü ›ÒüÖ°™ü (†¯ÖÏן֤êüµÖ) ÃÖÓ»ÖÝ®Ö ×ÛúµÖÖ •ÖÖµÖÝÖÖ … ×•Ö®Ö ×®Ö×¾Ö¤üÖ ¤üßÖÖ¾Öê•Ö ÛúêúúÃÖÖ£Ö 1123.60/- º . ÛúÖ ×›ü´ÖÖÓ›ü ›ÒüÖ°™ü ÃÖÓ»ÖÝ®Ö ®ÖÆüàÓ ÆüÖêÝÖÖ, ¾Öê ®ÖÖ´ÖÓ•Öæ¸ü Ûú¸ü פüµÖê •ÖÖµÖÝÖê…

    3. ×®Ö×¾Ö¤üÖ‹Ó ÜÖÖê»Ö®Öê †Öî¸ü •ÖÖÓ“Ö Ûú¸ü®Öê Ûúêúú¯Ö¿“ÖÖŸÖË †×ÝÖÏ´Ö •Ö´ÖÖ ¸üÖ×¿Ö Ûúêú ×»Ö‹ ‹Ûú Ûêú¿Ö ¸üÃÖߤü •ÖÖ¸üß Ûú¸ü ¤üß •ÖÖ‹ÝÖß …

    ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ ÛúÖê †×ÝÖÏ´Ö •Ö´ÖÖ Ûúß ¾ÖÖ¯ÖÃÖß »Öê®Öêê Ûúêúú×»Ö‹ Ûîú¿Ö ¸üÃÖߤü †¯Ö®Öêê ¯ÖÖÃÖ ¸ÜÖ®Öß ÆüÖêÝÖß … 4. †×ÝÖÏ´Ö •Ö´ÖÖ ¸üÖ×¿Ö Ûúêúú×»Ö‹ “ÖîÛúÖë †£Ö¾ÖÖ †®µÖ šêüÛúÖë ‡ŸµÖÖפü Ûúêúú×»Ö‹ ¯ÖÆü»Öê •Ö´ÖÖ Ûúß ÝÖ‡Ô †×ÝÖÏ´Ö ¸üÖ×¿Ö /»Ö×´²ÖŸÖ ¤êüµÖŸÖÖ†Öë/ײֻÖÖë/¯ÖÏןֳÖæ×ŸÖ •Ö´ÖÖ ¸üÖ×¿Ö ÃÖ´ÖÖµÖÖê×•ÖŸÖ Ûú¸ü®Öê Ûúêúú†®Öã¸üÖê¬Ö ÛúÖê ´ÖÓ•Öæ¸ü ®ÖÆüà ×ÛúµÖÖ •ÖÖ‹ÝÖÖ ŸÖ£ÖÖ ‹êÃÖß ¿ÖŸÖÔ ÃÖê µÖãŒŸÖ ×®Ö×¾Ö¤üÖ ÛúÖê †×ÝÖÏ´Ö •Ö´ÖÖ ¸üÖ×¿Ö ¸ü×ÆüŸÖ ×®Ö×¾Ö¤üÖ ´ÖÖ®ÖÛú¸ü ®ÖÖ´ÖÓ•Öæ¸ü Ûú¸ü פüµÖÖ •ÖÖ‹ÝÖÖ … 5. †×ÝÖÏ´Ö •Ö´ÖÖ ¸üÖ×¿Ö ¯Ö¸ü ²µÖÖ•Ö ÛúÖ ³ÖãÝÖŸÖÖ®Ö ®ÖÆüà ×ÛúµÖÖ •ÖÖ‹ÝÖÖ …

    6. µÖפü ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ †¯Ö®Ö ¯ÖÏßÖÖ¾Ö ÃÖÓ¿ÖÖê×¬ÖŸÖ Ûú¸üŸÖÖ/¾ÖÖׯÖÃÖ »ÖêŸÖÖ Æîü ŸÖ£ÖÖ/†£Ö¾ÖÖ ²Ö߯ÖßÃÖß‹»Ö ÛúÖ ¯ÖÏßÖÖ¾Ö Ã¾ÖßÛúÖ¸ü Ûú¸ü®Öê

    Ûúêúú²ÖÖ¤ü ×®Ö×¾Ö¤üÖ Ûúß ×®Ö¬ÖÖÔ׸üŸÖ ¾Öî¬ÖŸÖÖ ÃÖß´ÖÖ Ûúêúú³Öߟָü ‹»Ö†Öê†Ö‡Ô/ÛúÖµÖÔ†Ö¤êü¿Ö þÖßÛúÖ¸ü Ûú¸ü®Öê ÃÖê ‡ÓÛúÖ¸ü Ûú¸üŸÖÖ Æîü, †£Ö¾ÖÖ µÖפü ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ †×®Ö¾ÖÖµÖÔ ¯ÖÏןֳÖæ×ŸÖ ¸üÖ×¿Ö •Ö´ÖÖ ®ÖÆüà Ûú¸üÖŸÖÖ, †£Ö¾ÖÖ µÖפü ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ šêüÛúÖ ×´Ö»Ö®Öêê ÛúÖ †Ö¿ÖµÖ ¯Ö¡Ö •ÖÖ¸üß Ûú¸ü פü‹ •ÖÖ®Öê Ûúêúú‹Ûú ´ÖÖÆ üÛúêúú³Öߟָü ÛúÖê‡Ô ‹Ûú µÖÖ ÃÖ³Öß ¯ÖÏßÖÖ×¾ÖŸÖ ™ïüÛú »ÖÖò¸üß/»ÖÖò׸üµÖÖë ÛúÖê ŸÖî®ÖÖŸÖ Ûú¸ü®Öê ´Öë †ÃÖ´Ö£ÖÔ ¸üÆüŸÖÖ Æîü, ŸÖÖê †×ÝÖÏ´Ö •Ö´ÖÖ ¸üÖ×¿Ö •Ö²ŸÖ Ûú¸ü »Öß •ÖÖ‹ÝÖß …

    7. धिोहि िालश केवल ननववदा को अंनतम रूप देने के बाद ही वापस की िाएगी । वापसी का दावा कित े समय बीपीसीएल द्वािा िािी मूल कैश िसीद अवश्य सुपुदभ कि हदया िाना चाहहए । कैश िसीद गुम हो िाने के मामले में बीपीसीएल द्वािा उपलब्ध किाये गए ननहदभष्ट प्रोफामाभ में एक क्षनतपूनतभ ववथधवत नोटिी, (ननववदाकाि के खच ेपि) उथचत मूल्य के गैि न्यानयक स्टांप पेपि पि प्रस्तुत ककया िाएगा ।

    िी. समझौता वाताभ : 1. बीपीसीएल के पास ककसी एक या सर्ी ननववदाकताभओं के साि बातचीत किन ेका अथधकाि सुिक्षक्षत िहेगा ।

    2. ननववदाकताभओं को वाताभ के ललए कोलकाता या बीपीसीएल के ककसी अन्य कायाभलय पि दस्तावेिों का सत्यापन

    के ललए पूिी तिह अपने खचभ पि यािा किन ेकी आवश्यकता होगी ।

    3. केवल फमभ के माललक या फमभ का कानूनी रूप से अथधकृत प्रनतननथध व्यजक्तगत रूप से इस तिह के वाताभ में

    शालमल हो सकता, िैसा कक प्रनतबद्धता अिवा वाताभ के दौिान दी गई स्पष्टीकिण के रूप में ननववदाकािों पि बाध्यकािी होगा । वह आवश्यक प्राथधकिण ऐसी वाताभ में र्ाग लेने के ललए औि बातचीत में र्ाग लेने वाले बीपीसीएल के प्रनतननथधयों के ललए उसी तिह की एक प्रमाणीकृत प्रनतललवप सौंपने के ललए ले कि आना होगा ।

  • 4. ननववदा दस्तावेि में हदए गए ववविण को सत्यावपत किने के ललए बीपीसीएल के वववेक पि ककसी अन्य समय में या वाताभ के दौिान बीपीसीएल के ननदेशानुसाि दस्तावेि के रूप में प्रस्तुत दस्तावेिों की मूल प्रनत के साि ननववदा दस्तावेिों की छाया प्रनतयां र्ी या सत्यापन के ललए प्रस्तुत किना होगा ।

    ई. लसक्योरिटी डिपॉजिट (एसिी): सफल ननववदाकािों को एसिी के ललए प्रनत टैंकलॉिी रुपये 1,00,000/- (रुपये एक लाख) जिसकी अथधकतम सीमा रुपये 5,00,000/- (रुपये पााँच लाख) तक हो सकती है प्रनत टैंकलॉिी के ववषय में यह एलओआई/ कायभ आदेश िािी होने के 15 हदनों के अंदि िमा किवाना होगा । बैंक गािंटी केवल ननहदभष्ट प्रोफामाभ में बैंक गािंटी के रूप में िमा ककया िा सकता है । िो साढ़े तीन वषभ ललए वैध होगा ।

    1. अनुबंध ननष्पादन से उत्पन्न ककसी र्ी प्रकाि के नुकसान / दावे / क्षनत आहद एसिी के साि समायोज्य ककया िाएगा । एसिी से अथधक ककसी र्ी नुकसान / दावे / क्षनत हेतु इस अनुबंध के तहत या ककसी र्ी अन्य अनुबंध के तहत ठेकेदाि को ककए िाने वाले र्ुगतान के एवि में देय िालश से वसलू ककया िाएगा ।

    2. लसक्योरिटी डिपॉजिट ठेकेदाि के ललखखत अनुिोध पि औि संतोषिनक ननष्पादन के अधीन मूल कैश िसीद के प्रस्तुत किने पि अनुबंध समाप्ती के छ्ह महीने के बाद वापस लौटा दी िाएगी । एसिी कैश िसीद के खोने अिवा गुम होने की जस्िनत में, ववथधवत नोटिी (ठेकेदाि के खचभ पि) उथचत मूल्य के गैि न्यानयक स्टांप पेपि पि, ननधाभरित प्रोफामाभ में एक क्षनतपूनतभ बांि प्रस्तुत किने के बाद ही एसिी वापस ककया िाएगा

    3. एक ननववदाकताभ के ललए अलग अलग स्िान के ललए अलग अलग अनुबंध होगा चाहे ननववदाकताभ ववलर्न्न स्िानों के ललए टैंकलॉरियों की पेशकश किता हो । ववलर्न्न स्िानों के ललए पेशकश की गई टैंकलॉरियों के ललए अलग अलग लसक्योरिटी डिपॉजिट िमा ककया िाएगा ।

    4. सफल ननववदाकाि की टैंकलॉरियां सुिक्षा िमा िालश के समझौत ेपि हस्ताक्षि ककए िाने औि लसक्योरिटी डिपॉजिट प्राप्त होने के बाद कायभ में लगाया िाएगा ।

    ‹±ú . šêüÛêú Ûúß †¾Ö×¬Ö : •Ö²Ö ŸÖÛú ×Ûú †®ÖµÖ£ÖÖ ×®Ö¬ÖÖÔ׸üŸÖ µÖÖ ÃÖÆü´Ö×ŸÖ ®ÖÖ ÆüÖê, šêüÛúÖ 2 (¤üÖê)ê ¾ÖÂÖÔÛúêúú×»Ö‹ פüµÖÖ •ÖÖµÖêÝÖÖ (w.e.f. 01.07.2015) וÖÃÖê ×®ÖÝÖ´Ö ÛúêúúþÖ×®ÖÞÖ ÔµÖ ÃÖê, ˆ®Æüà ¤ü¸üÖë, ¿ÖŸÖÖí †Öî¸ü ×®Ö²ÖÓ¬Ö®ÖÖêë ¯Ö¸ü 1 (‹Ûú) ¾ÖÂÖÔ ŸÖÛú Ûúêúú×»Ö‹ ²ÖœÍüÖ®Öêê ÛúÖ ×¾ÖÛú»¯Ö ¸üÆüêüÝÖÖ…

    •Öß. ÃÖ´Ö—ÖÖîŸÖê ÛúÖ ×®Ö¯ÖÖ¤ü®Ö : 1. ÃÖ±ú»Ö ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ/×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ†Öë ÛúÖê, šêüÛúÖ ¿Ö㺠Ûú¸ü®Öêê ÃÖê ¯Öæ¾ÖÔ, ‹»Ö†Öê†Ö‡Ô •ÖÖ¸üß ×Ûú‹ •ÖÖ®Öêê Ûúß ŸÖÖ¸üßÜÖ ÃÖê 15 פü®ÖÖë Ûúêúú³Öߟָü ÃÖ´Ö—ÖÖîŸÖê ¯Ö¸ü ÆüßÖÖõÖ¸ü ü Ûú¸ü®ÖÖ ÆüÖêÝÖÖ ŸÖ£ÖÖ ÛúÖµÖÖÔ¤êü¿Ö •ÖÖ¸üß Ûú¸®Öê Ûêêúú30 פü®ÖÖêë Ûúêúú³Öߟָü »ÖÖêêÛú¿Ö®Ö ¯Ö¸ü ¯ÖÏŸµÖõÖ º ¯Ö ÃÖê ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖÓ ŸÖî®ÖÖŸÖ Ûú¸ü ¤ê®Öß ÆüÖëÝÖß … ‹êÃÖÖ ®Ö Ûú¸®Öêê ¯Ö¸ü, ²Ö߯ÖßÃÖß‹»Ö ÛúÖê ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖë Ûúß ŸÖî®ÖÖŸÖß ®ÖÖ´ÖÓ•Öæ¸ü Ûú¸ü ¤ê®Öêê ÛúÖ †×¬ÖÛúÖ¸ü ÆüÖêÝÖÖ …

  • 2. ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ†Öë ÛúÖê ¯Ö¸üÖ´Ö¿ÖÔ ×¤üµÖÖ •ÖÖŸÖÖ Æîü ×Ûú ×®Ö×¾Ö¤üÖ ¯ÖÏßÖãŸÖ Ûú¸®Öêê ÃÖê ¯Öæ¾ÖÔ ¾Öê ×®Ö×¾Ö¤üÖ ¤üßÖÖ¾Öê•Ö ÛúêúúÃÖÖ£Ö ÃÖÓ»ÖÝÖ®Ö/Æü´ÖÖ¸üß ¾Öê²ÖÃÖÖ‡™ü ÃÖê ›üÖˆ®Ö»ÖÖê›ü ×Ûú‹ ÝÖµÖê ÃÖ´Ö—ÖÖîŸÖÖ ¯ÖÏ¯Ö¡Ö Ûúß ®Ö´Öæ®ÖÖ ¯ÖÏ×ŸÖ ÛúÖê ¬µÖÖ®Ö ¯Öæ¾ÖÔÛú ÃÖ´Ö—Ö »Öë … ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ ÛúÖê ‡ÃÖÛêúú ‹Ûú ÃÖê™ü ÛúêúúÃÖ³Öß ¯ÖéšüÖë ¯Ö¸ü,ÃÖ´Ö —ÖÖîŸÖê Ûúß ¿ÖŸÖÖí †Öî¸ü ×®Ö²ÖÓ¬Ö®ÖÖêë Ûúß ´ÖÓ•Öæ¸üß Ûúêúú¯ÖÏ´ÖÖÞÖ Ûúê º ¯Ö ´Öë †×¬ÖÛúÖ׸üÛú ´ÖÖêÆü¸üÛúêúúÃÖÖ£Ö ×¾Ö׬־֟ÖË †¯Ö®Öêê ÆüßÖÖõÖ¸ü ü Ûú¸®Öêêê ÆüÖêÝÖê †Öî¸ü ‡ÃÖê ×®Ö×¾Ö¤üÖ ÛúêúúÃÖÖ£Ö •Ö´ÖÖ Ûú¸üÖ®ÖÖ ÆüÖêÝÖÖ ŸÖ£ÖÖ ¤æüÃÖ¸üÖ ÃÖê™ü ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ ÛúÖê †¯Ö®Öêê ¯ÖÖÃÖ ¸ÜÖ®ÖÖ ÆüÖêÝÖÖ…

    3. µÖפü ×®Ö×¾Ö¤üÖ ¯Ö¸ü ÆüßÖÖõÖ¸ü ü Ûú¸ü®Öêê ¾ÖÖ»ÖÖ ¾µÖÛ×ŸÖ ¯ÖÏÖ׬ÖéÛúŸÖ ÆüßÖÖõÖ¸ü üÛúŸÖÖÔ ®Ö ÆüÖê, ŸÖÖê ÃÖ´Ö—ÖÖîŸÖê ¯Ö¸ü ÆüßÖÖõÖ¸ü Ûú¸ü®Öêê ÃÖê ¯Öæ¾ÖÔ ±´ÖÔ/þÖÖ´Öß Ûúß †Öê¸ü ÃÖê, ÆüßÖÖõÖ¸ü üÛúŸÖÖÔÛúêúúº ¯Ö ´Öë ¯ÖÏÖ׬ÖÛúÖ¸ü ¯ÖϤüÖ®Ö Ûú¸®Öêê ¾ÖÖ»ÖÖ †Ö¾Ö¿µÖÛú ´ÖãÜÖŸÖÖ¸®ÖÖ´ÖÖ ¯ÖÏßÖãŸÖ Ûú¸®ÖÖ ÆüÖêÝÖÖ, ŸÖ£ÖÖ ´ÖãÜÖŸÖÖ¸ü®ÖÖ´Öê Ûúß ‹Ûú ¯ÖÏ´ÖÖ×ÞÖŸÖ ¯ÖÏ×ŸÖ ×¸üÛúÖò›Ô üÛúêúú×»Ö‹ ²Ö߯ÖßÃÖß‹»Ö Ûúêúú¯ÖÖÃÖ •Ö´ÖÖ Ûú¸üÖ®Öß ÆüÖêÝÖß …

    4. †Ö¿ÖµÖ¯Ö¡Ö (‹»Ö†Öê†Ö‡Ô) •ÖÖ¸üß ×Ûú‹ •ÖÖ®Öêê Ûúß ŸÖÖ¸üßÜÖ ÃÖê 15 פü®ÖÖêë Ûúêúú³Öߟָü ÃÖ´Ö —ÖÖîŸÖÖ ×®Ö¯ÖÖפüŸÖ ®Ö Ûú¸ü®Öêê ŸÖ£ÖÖ/†£Ö¾ÖÖ †Ö¾Ö¿µÖÛú ¯ÖÏןֳÖæ×ŸÖ •Ö´ÖÖ ®Ö Ûú¸üÖ®Öêê ¯Ö¸ü ŸÖ£ÖÖ/†£Ö¾ÖÖ ÛúÖµÖÖÔ¤êü¿Ö •ÖÖ¸üß ÆüÖê®Öêê Ûúêúú30 פü®ÖÖêë Ûúêúú³Öߟָü »ÖÖêêÛú¿Ö®Ö ¯Ö¸ü ¯ÖÏŸµÖõÖ º ¯Ö ÃÖê ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖÓ ŸÖî®ÖÖŸÖ ®Ö Ûú¸®Öêê ¯Ö¸ü ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ Ûúß †×ÝÖÏ´Ö •Ö´ÖÖ ¸üÖ×¿Ö ÛúÖê •Ö²ŸÖ ×ÛúµÖÖ •ÖÖ ÃÖÛúŸÖÖ Æîü †Öî¸ü ÛúÖ®Öæ®Ö ÛúêúúŸÖÆüŸÖ õÖן֯ÖæÙŸÖ Ûúêúú×»Ö‹, ²Ö߯ÖßÃÖß‹»Ö Ûúêúú†×¬ÖÛúÖ¸üÖë ¯Ö¸ü ×ÛúÃÖß ¯ÖÏןÖæÛú»Ö ¯ÖϳÖÖ¾Ö Ûúêúúײ֮ÖÖ, üšüêüÛúêú ÛúÖê ¸ü§ü ×ÛúµÖÖ •ÖÖ ÃÖÛúŸÖÖ Æîü …

    5. ×®Ö×¾Ö¤üÖ †Ö´ÖÓ¡ÖÞÖ ÃÖæ“Ö®ÖÖ ´Öë ×®Ö¬ÖÖÔ׸üŸÖ ÃÖ³Öß ¿ÖŸÖí †Öî¸ü ×®Ö²ÖÓ¬Ö®Ö, ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ†Öë Ûúêúú×»Ö‹ פü¿ÖÖ×®Ö¤ìü¿Ö, ×®Ö×¾Ö¤üÖ Ûúß ¿ÖŸÖí †Öî¸ü ×®Ö²ÖÓ¬Ö®Ö ‘ÖÖêÂÖÞÖÖ‹Ó, ÃÖ´Ö—ÖÖîŸÖÖ ‹¾ÖÓ ×®Ö×¾Ö¤üÖ ÛúêúúÃÖÖ£Ö ¯ÖÏßÖãŸÖ ×Ûú‹ †®µÖ ¤üßÖÖ¾Öê•Ö ŸÖ£ÖÖ ÃÖÓ²ÖÓ×¬ÖŸÖ ¯Ö¡ÖÖ“ÖÖ¸ü üšüêüÛúêú ÛúÖ ×ÆüÃÃÖÖ ÆüÖêÝÖê…

    ‹“Ö . †Ö¸õÖÞÖ : 1. ÛÎúú´Ö¿Ö: †®ÖããÃÖæ×“ÖŸÖ •ÖÖןֵÖÖë ‹¾ÖÓ †®ÖããÃÖæ×“ÖŸÖ •Ö®Ö•ÖÖןֵÖÖë Ûúêúú×»Ö‹ †×ÜÖ»Ö ³ÖÖ¸üŸÖßµÖ ÃŸÖ¸ü ¯Ö¸ü †Ö¸üõÖÞÖ ÛúÖ ¯ÖÏÖ¾Ö¬ÖÖ®Ö

    ÛÎú´Ö¿Ö: 15% (¯ÖÓ¦üÆü ¯ÖÏןֿ֟Ö) †Öî¸ü 7.5% ( ÃÖÖœÍêü ÃÖÖŸÖ ¯ÖÏ×ŸÖ¿ÖŸÖ ) ÆüÖêÝÖÖ…

    2. ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖë ÛúÖ ¯ÖÏßÖÖ¾Ö ¯ÖÏßÖãŸÖ Ûú¸ü®Öêê Ûúêúú‡“”ãÛú †®ÖããÃÖæ×“ÖŸÖ •ÖÖןÖ/†®ÖããÃÖæ×“ÖŸÖ •Ö®Ö•ÖÖ×ŸÖ ÛúêúúÃÖ¤üõÖÖë ÛúÖê ²Ö߯ÖßÃÖß‹»Ö «üÖ¸üÖ •ÖÖ¸üß Ûúß ÝÖ‡Ô ×®Ö×¾Ö¤üÖ†Öë ´Öë ³ÖÖÝÖ »Öê®ÖÖ ÆüÖêÝÖÖ…

    3. †®ÖããÃÖæ×“ÖŸÖ •ÖÖןÖ/†®ÖããÃÖæ×“ÖŸÖ •Ö®Ö•ÖÖןÖÛúêúúÃÖ¤üõÖÖë ÛúÖê ×®Ö×¾Ö¤üÖ Ûúß ÃÖ³Öß ¿ÖŸÖí ¯Öæ̧ üß Ûú¸ü®Öß ÆüÖêÝÖß ŸÖ£ÖÖ ¾Öê ´Ö滵ÖÖë ´Öë ×ÛúÃÖß ¯ÖÏÛúÖ¸ü Ûúß ×¸üµÖÖµÖŸÖ †£Ö¾ÖÖ ´ÖÖ®ÖÛúÖë ´Öë ×ÛúÃÖß ¯ÖÏÛúÖ¸ü Ûúß ”æû™ü ¯ÖÖ®Öêê Ûêúúú¯ÖÖ¡Ö ®ÖÆüà ÆüÖêÝÖê…

    4. µÖפü ×ÛúÃÖß ¾ÖÂÖÔ †®Öãã.•ÖÖ./†®Öãã.•Ö.•ÖÖ×ŸÖ Ûúêúú¯ÖµÖÖÔ¯ŸÖ ÃÖÓÜÖµÖÖ ´Öë ™ïüÛú»ÖÖò׸üµÖÖë Ûúêúú¯ÖÏßÖÖ¾Ö ¯ÖÏÖ¯ŸÖ ®ÖÆüà ÆüÖêÝÖê ŸÖÖê ¿ÖêÂÖ

    ÛúÖê™êü ÛúÖê ˆÃÖ ¾ÖÂÖÔÛúêúú†®ÖÖ¸ü×õÖŸÖ ÛúÖê™êü ´Öë †Ö¾ÖÓ×™üŸÖ ×ÛúµÖÖ •ÖÖ ÃÖÛúŸÖÖ Æîü … ŸÖ£ÖÖׯÖ, ‡ÃÖ ²ÖÖÛúß ²Ö“Öê Æãü‹ ÛúÖê™êü ÛúÖê †ÝÖ»Öß ×®Ö×¾Ö¤üÖ ´Öë †ÝÖÖÏ®ÖßŸÖ ×ÛúµÖÖ •ÖÖ ÃÖÛúŸÖÖ Æîü †Öî¸ü †®Öãã.•ÖÖ./†®Öãã.•Ö.•ÖÖ×ŸÖ Ûúêúúˆ´´Öߤü¾ÖÖ¸üÖë ÛúÖê ³Öß ×¤üµÖÖ •ÖÖ ÃÖÛúŸÖÖ Æîü… µÖפü ׯ֔û»Öß ×®Ö×¾Ö¤üÖ ÛúÖ ÛúÖê™üÖ †ÝÖÖ»Öß ×®Ö×¾Ö¤üÖ ´Öë ³Öß ®ÖÆüà ³Ö¸üÖ ÝÖµÖÖ ŸÖÖê ׯ֔û»Öê ¾ÖÂÖÔ Ûêúúú²ÖÖÛúß ÛúÖê™êü ÛúÖê †®ÖÖ¸ü×õÖŸÖ ²Ö®ÖÖµÖÖ •ÖÖ ÃÖÛúŸÖÖ Æîü †Öî¸ü ÃÖÖ´ÖÖ®µÖ ÁÖêÞÖÖß Ûúêúúˆ´´Öߤü¾ÖÖ¸ü ÛúÖê פüµÖÖ •ÖÖ ÃÖÛúŸÖÖ Æîü …

    5. ³ÖÖÝÖÖߤüÖ¸üß ±ú´ÖÔ, µÖÖ ¯ÖÏÖ‡¾Öê™ü ×»Ö×´Ö™êü›ü ÓÛú, µÖÖ ¯Öײ»ÖÛú ÓÛú., µÖÖ ¯Öײ»ÖÛú ×»Ö×´Ö™êü›ü ÓÛú., µÖÖ ÛúÖê†Öò¯Ö¸êü×™ü¾Ö

    ÃÖÖêÃÖÖ‡™üß, †£Ö¾ÖÖ ×ÛúÃÖß †®µÖ Ûúêúú†ÓŸÖÝÖÔŸÖ ¯Ö׸ü“ÖÖ»Ö®Ö Ûêúúú‡“”ãÛú †®ÖããÃÖæ×“ÖŸÖ •ÖÖןÖ/†®ÖããÃÖæ×“ÖŸÖ •Ö®Ö•ÖÖ×ŸÖ Ûúêúú ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ/×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ†Öë Ûúêúú¯ÖÏÖ‡¾Öê™ü/¯Öײ»ÖÛú/ ÛúÖê†Öò¯Ö¸êü×™ü¾Ö ±ú´ÖÔ ÛêêúúÃÖ³Öß ³ÖÖÝÖÖߤüÖ¸ü µÖÖ ÃÖ³Öß ÃÖ¤üÃµÖ ×²Ö®ÖÖ ×ÛúÃÖß †¯Ö¾ÖÖ¤ üÛúêúúˆÃÖß ÁÖêÞÖß, †£ÖÖÔŸÖË †®ÖããÃÖæ×“ÖŸÖ •ÖÖ×ŸÖ µÖÖ †®ÖããÃÖæ×“ÖŸÖ •Ö®Ö•ÖÖןÖ, •ÖîÃÖÖ ³Öß ´ÖÖ´Ö»ÖÖ ÆüÖê,ÛúêúúÆ üÖê®Öêê “ÖÖ×Æü‹ …

  • 6. ¯ÖÏÖ‡¾Öê™ü/¯Öײ»ÖÛú/ ÛúÖê†Öò¯Ö¸êü×™ü¾Ö ±ú´ÖÔ Ûúêúú¯ÖÏŸµÖêÛú ÃÖ¤üÃµÖ ÛúÖ •ÖÖ×ŸÖ ¯ÖÏ´ÖÖÞÖ¯Ö¡Ö ŸÖÛú®ÖßÛúß ²ÖÖê»Öß ÛúêúúÃÖÖ£Ö, ¯ÖÏ´ÖÖÞÖ Ûúêúº ¯Ö ´Öë ÃÖÓ»ÖÝ®Ö Ûú¸ü®ÖÖ ÆüÖêÝÖÖ… 7. µÖפü ÛúÖê‡Ô ÃÖ¤üÃµÖ †®ÖããÃÖæ×“ÖŸÖ •ÖÖ×ŸÖ µÖÖ †®ÖããÃÖæ×“ÖŸÖ •Ö®Ö•ÖÖ×ŸÖ ¾ÖÝÖÔ ÃÖê ÃÖÓ²ÖÓ×¬ÖŸÖ ÆüÖ®Öêê Ûúêúú¯ÖÏ´ÖÖÞÖ Ûêúúúº ¯Ö ´Öë •ÖÖ×ŸÖ ¯ÖÏ´ÖÖÞÖ¯Ö¡Ö ¯ÖÏßÖãŸÖ ®ÖÆüà Ûú¸üŸÖÖ ŸÖÖê, ×®Ö×¾Ö¤üÖ ÛúÖê ÃÖÖ´ÖÖ®µÖ ¾ÖÝÖÔ Ûúß ×®Ö×¾Ö¤üÖ ´ÖÖ®ÖÖ •ÖÖµÖÝÖÖ…

    8. †®ÖããÃÖæ×“ÖŸÖ •ÖÖ×ŸÖ µÖÖ †®ÖããÃÖæ×“ÖŸÖ •Ö®Ö•ÖÖ×ŸÖ Ûúêúú ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ / ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ†Öë «üÖ¸üÖ ¯ÖÏßÖÖ×¾ÖŸÖ ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖë Ûúêúú¯ÖÓ•ÖßéÛúŸÖ ´ÖÖ×»ÖÛú ³Öß ˆÃÖß ÁÖêÞÖß, †£ÖÖÔŸÖË †®Öãã.•ÖÖןÖ., µÖÖ †®Öãã.•Ö®Ö.•ÖÖ., •ÖîÃÖÖ ³Öß ´ÖÖ´Ö»ÖÖ ÆüÖê, ÃÖê ÃÖÓ²ÖÓ×¬ÖŸÖ ÆüÖê®Öêê “ÖÖ×Æü‹ … ¤æüÃÖ¸êü ¿Ö²¤üÖë ´Öë, µÖפü ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ ÛúÖê †®ÖãããÃÖæ×“ÖŸÖ •ÖÖ×ŸÖ Ûúß ÁÖêÞÖß Ûúêúú†ÓŸÖÝÖÔŸÖ ‹»Ö†Öê†Ö‡Ô/ ÛúÖµÖÖÔ¤êü¿Ö •ÖÖ¸üß ×ÛúµÖÖ ÝÖµÖÖ ÆüÖê, ŸÖÖê ˆŒŸÖ ‹»Ö†Öê†Ö‡Ô/ÛúÖµÖÖÔ¤êü¿Ö Ûúêúú×»Ö‹ ¯ÖÏßÖÖ×¾ÖŸÖ ÃÖ³Öß ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖë Ûúêúú¯ÖÓ•ÖßéÛúŸÖ ´ÖÖ×»ÖÛú ³Öß †®ÖããÃÖæ×“ÖŸÖ •ÖÖ×ŸÖ ÃÖê ÃÖÓ²ÖÓ×¬ÖŸÖ ÆüÖ®Öêê “ÖÖ×Æü‹ …

    9. µÖפü ¯ÖÏßÖÖ×¾ÖŸÖ ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖë ´Öë ÃÖê ÛúÖê‡Ô ³Öß ™ïüÛú »ÖÖò¸üß ÃÖÓ²Ö¨ü ÁÖêÞÖß, †£ÖÖÔŸÖË †®Öãã.•ÖÖ. µÖÖ †®Öãã.•Ö®Ö.•ÖÖ. •ÖîÃÖÖ ³Öß ´ÖÖ´Ö»ÖÖ ÆüÖê,ÛúêúúÃÖ¤üÃµÖ ÃÖê ÃÖÓ²ÖÓ×¬ÖŸÖ ®ÖÆüà ÆüÖêÝÖß, ŸÖÖê ×®Ö×¾Ö¤üÖ ÛúÖê ÃÖÖ´ÖÖ®µÖ ¾ÖÝÖÔ ÃÖê ÃÖÓ²ÖÓ×¬ÖŸÖ ´ÖÖ®Ö ×»ÖµÖÖ •ÖÖ‹ÝÖÖ…

    †Ö‡Ô . ×¾Ö×¾Ö¬Ö :

    1. †×¬Ö´ÖÖ®ÖŸÖ:ü ²Ö»Ûú ¯Öê™ÒüÖê×»ÖµÖ´Ö ˆŸ¯ÖÖ¤üÖë Ûúêúú¯Ö׸ü¾ÖÆ®Ö Ûúêúú×»Ö‹ ²Ö߯ÖßÃÖß‹»Ö ÛúÖê ˆ¯Ö»Ö²¬Ö Ûú¸üÖ‡Ô •ÖÖ®Öêê ¾ÖÖ»Öß ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖë Ûúêúú×»Ö‹ üšüêüÛúêú¤üÖ¸ü (üšüêüÛúêú¤üÖ¸üÖë) ÛúêúúÜÖ“ÖÔ ¯Ö¸ü, ¸üÖ™ÒüßµÖ ¯Ö¸ü×´Ö™ü/õÖê¡ÖßµÖ ¯Ö¸ü×´Ö™ü ²Ö®ÖÖ ÆüÖê … üšüêüÛúêú¤üÖ¸ü ÛúÖê ¸üÖ•µÖ Ûúêúú³Öߟָü ¯Ö׸ü“ÖÖ»Ö®Ö Ûúêúú×»Ö‹ ×®Ö¬ÖÖÔ׸üŸÖ ÃÖÓܵÖÖ ´Öë ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖÓ ˆ¯Ö»Ö²¬Ö Ûú¸üÖ®Öß ÆüÖêÝÖêÓß …

    2. पेश की गई टैंक लॉरियों को वाहक के खच ेपि बीपीसीएल की नई आिवीआई के अनुसाि पेंट ककया िाना चाहहए। पेंट किने का काम टैंक लॉरियों को शालमल किने से पहले ककया िाना चाहहए ।

    3. ²Ö߯ÖßÃÖß‹»Ö ÛúÖê, ¯Öæ¸üß ŸÖ¸üÆü †¯Ö®Öêê ×¾Ö¾ÖêÛúÖ׬ÖÛúÖ¸ü ÃÖê ×ÛúÃÖß µÖÖ ÃÖ³Öß ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ†Öë Ûúß ×®Ö×¾Ö¤üÖ ÛúÖê ÛúÖê‡Ô ÛúÖ¸üÞÖ

    ²ÖŸÖÖ‹ ײ֮ÖÖ ®ÖÖ´ÖÓ•Öæ¸ü Ûú¸ü®Öêê ÛúÖ †×¬ÖÛúÖ¸ü ÆüÖêÝÖÖ… ²Ö߯ÖßÃÖß‹»Ö ÛúÖê ײ֮ÖÖ ÛúÖê‡Ô ÛúÖ¸üÞÖ ²ÖŸÖÖ‹, ‡ÃÖ ×®Ö×¾Ö¤üÖ ÛúÖê ¾ÖÖׯÖÃÖ »Ö®Öêê/¸ü§ü Ûú¸®Öêê/ÃÖÓ¿ÖÖê×¬ÖŸÖ Ûú¸ü®Öêê ÛúÖ †×¬ÖÛúÖ¸ü ÆüÖêÝÖÖ…

    4. ²Ö߯ÖßÃÖß‹»Ö ÛúÖê ÃÖ±ú»Ö ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúŸÖÖÔ†Öë «üÖ¸üÖ ¯ÖÏßÖÖ×¾ÖŸÖ ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖë ´Öë ÃÖê, ײ֮ÖÖ ÛúÖê‡Ô ÛúÖ¸üÞÖ ²ÖŸÖÖ‹, ÃÖ³Öß µÖÖ

    Ûãú”û ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖë ÛúÖê ´ÖÓ•Öæ̧ ü Ûú¸®Öêê ÛúÖ †×¬ÖÛúÖ¸ü ÆüÖêÝÖÖ… ²Ö߯ÖßÃÖß‹»Ö ÛúÖ ×®ÖüÞÖÔµÖ †Ó×ŸÖ´Ö †Öî¸ü ²ÖÖ¬µÖÛúÖ¸üß ÆüÖêÝÖÖ…

    5. ²Ö߯ÖßÃÖß‹»Ö ÛúÖê ×ÛúÃÖß ×®Ö×¾Ö¤üÖ ´Öë ¯ÖÏßÖÖ×¾ÖŸÖ ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖë ÛúÖê, ãÖÖ‡Ô µÖÖ †Ã£ÖÖ‡Ô º ¯Ö ÃÖê, ×ÛúÃÖß †®µÖ ¸üÖ•µÖ/õÖê¡Ö/ãÖÖ®Ö, µÖÖ ×ÛúÃÖß †®µÖ ´ÖÖÝÖÔ ¯Ö¸ü ×ÛúÃÖß üšüêüÛúêú ´Öë ŸÖî®ÖÖŸÖ Ûú¸ü®Öêê ÛúÖ †×¬ÖÛúÖ¸ü ÆüÖêÝÖÖ ŸÖ£ÖÖ ÃÖ±ú»Ö ×®Ö×¾Ö¤üÖÛúÖ¸üÖë/üšüêüÛúêú¤üÖ¸üÖë Ûúêúú×»Ö‹ ²Ö߯ÖßÃÖß‹»Ö ÛúÖ ×®ÖÞÖÔµÖ †Ó×ŸÖ´Ö †Öî¸ü ²ÖÖ¬µÖÛúÖ¸üß ÆüÖêÝÖÖ…

    6. ¯ÖÏßÖãŸÖ ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖë ÛúÖê Æü´Öê¿ÖÖ ¾Öî¬Ö ¯Ö¸ü×´Ö™üÖë,ÛúÖ®Öæ®Öß/ÃÖ¸üÛúÖ¸üß ¯ÖÏÖ׬ÖÛú¸üÞÖÖêÓ Ûúêúú×®ÖµÖ´ÖÖë †Öî¸ü ×¾Ö×®ÖµÖ´ÖÖë ÛúÖ ¯ÖÖ»Ö®Ö

    Ûú¸®ÖÖ ÆüÖêÝÖÖ…

    7. •ÖÆüÖÓ ÛúÆüà ³Öß ™ïüÛú »ÖÖò¸üß µÖÖ ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖë ™üß.‹»Ö.,™üß.™üß., ™ïüÛú ™ÒüÛú ¿Ö²¤ü ÛúÖ ˆ»»ÖêÜÖ Æãü†Ö Æîü, ÃÖ²ÖÛúÖ ŸÖÖŸ¯ÖµÖÔ ¯Öê™ÒüÖê×»ÖµÖ´Ö ˆŸ¯ÖÖ¤ü ™ïüÛú »ÖÖò׸üµÖÖë ÃÖê Æîü …

    8. ¯Ö׸ü¾